अमेरिका और चीन संघर्ष: भारत को भू-राजनीतिक लाभ

us china money
  • डॉ. मोहम्मद वसी बेग
वर्तमान में पूरी दुनिया COVID-19 के कारण वित्तीय संकट का सामना कर रही है। हमारा देश “भारत” भी आर्थिक संकट से जूझ रहा है। लेकिन वर्तमान परिदृश्य में, अमेरिका और चीन के बीच अंतर दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। वे दोनों एक दूसरे पर कोरोना वायरस फैलाने का आरोप लगा रहे हैं। अमेरिका और चीन दोनों ही महाशक्ति हैं और सभी पहलुओं में नंबर एक बनना चाहते हैं। इस लेख को लिखने के बारे में मेरा दृष्टिकोण यह है कि, हम अमेरिका और चीन के बीच विवाद पैदा करते हुए, भू-राजनीतिक लाभ उठा सकते हैं। यदि हम पिछले कुछ हफ्तों से अमेरिका और चीन दोनों के राष्ट्रपतियों के भाषणों का विश्लेषण करते हैं, तो हम कह सकते हैं कि इन देशों के बीच संघर्ष दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है।

Live27: जरा समझने का प्रयास करें कि कोरोना के चलते अर्थव्यवस्था बर्बाद है लेकिन डॉलर के भाव अब भी टाइट क्यों है… इस पूरी वीडियो को देखें दिमाग की बत्ती खुल जाएगी।

हाल ही में अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प ने इस वायरस को चीनी वायरस के रूप में इंगित किया, इसी तरह चीनी राष्ट्रपति इस वायरस को अमेरिका द्वारा आविष्कार किया गया बता रहे हैं। इन बयानों से पता चलता है कि उनके कितने मतभेद हैं। इन बयानों से यह भी संकेत मिलता है कि निकट भविष्य में उनके भौगोलिक और राजनीतिक संबंध सबसे खराब हो रहे हैं। बहुत जल्द यू.एस. में चुनाव होने वाले हैं, अगर ट्रम्प फिर से चुने जाते हैं, तो जिन कंपनियों ने चीन को बहुत अच्छा व्यवसाय दिया है, वे व्यवसाय देना बंद कर सकते हैं। चीन के साथ ट्रम्प व्यापार सौदा रुकेगा अब भारत अमेरिका का एक अच्छा दोस्त होने के नाते इस अवसर को प्राप्त कर सकता है और चीन के व्यापार को हमारे पक्ष में ले सकता है। 
लेकिन यह भी सच है कि, अमेरिका गुणवत्ता से समझौता नहीं करेगा। अगर हम वास्तव में चीन के व्यापार को अपने पक्ष में लेना चाहते हैं तो हमें हर क्षेत्र और हर विभाग में कड़ी मेहनत करनी होगी। हम केवल नवीनतम प्रौद्योगिकी, स्वचालन, बड़े पैमाने पर उत्पादन, प्रतिस्पर्धी मूल्य निर्धारण, रिवर्स विनिर्माण, इन्वेंट्री प्रबंधन, कौशल विकास को अपनाने के द्वारा चीन के बाजार पर कब्जा करते हैं, जैसे विभिन्न गुणवत्ता प्रबंधन उपकरण लागू करते हैं, जैसे कैज़ेन, जेआईटी, 5 एस आदि।
अब यह हमारा सरकारी कर्तव्य है कि हम इस अवसर को समझें और अपने सभी MSME और बड़े उद्योगों को शिक्षण / प्रशिक्षण प्रदान करें। विभिन्न सरकारी संस्थानों / उद्योगों / विश्वविद्यालयों / कॉलेजों आदि के सहयोग से कौशल विकास संस्थान बड़े पैमाने पर खुले होने चाहिए। फिर भी हमें इन्वेंट्री प्रबंधन, स्वचालन, आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन, व्यापार, गुणवत्ता प्रबंधन, ब्रांड इक्विटी, के क्षेत्र में काम करना होगा। कम लागत के विपणन के तरीके, नवाचार और अनुसंधान।

  • लेख में दिये गये विचार लेखक के स्वयं हैं। ई-रेडियो इंडिया का उससे सहमत होना जरूरी नहीं है। लेखक NCPER अलीगढ़ अध्यक्ष हैं।

Send Your News to +919458002343 email to [email protected] for news publication to eradioindia.com
Advertisement