बरासों में सवा करोड़ रुपए से बनेगा जिले का पहला 27 फीट ऊंचा भगवान का समवशरण

mpa25 3822654 large विराजमान होंगी 92 प्रतिमाएं शिलान्यास आज

भास्कर संवाददाता| भिंड

Advertisement

जैन धर्म के प्राचीन अतिशय क्षेत्र बरासों जैन मंदिर में सवा करोड़ की लागत से जिले का पहला 27 फीट ऊंचा समवशरण(भगवान का दरबार) बनने जा रहा है। जिसका निर्माण राजस्थान के संगमरमर और लाल पत्थर से किया जाएगा। वर्ष 2021 में इसका निर्माण कार्य पूरा हो जाएगा। सोमवार को जैन मुनि विहसंत सागर महाराज के सानिध्य में शिलान्यास किया जाएगा।

बरासों जैन मंदिर परिसर में मौजूद टीले के ऊपर समवशरण के लिए 35 वाई 35 का एक हॉल बनाया जाएगा, जो 72 फीट ऊंचा रहेगा। इस समवशरण में एक साथ जैन धर्म के भगवानों की 92 प्रतिमाएं विराजमान की जाएंगी। जिसमें 24 तीर्थंकरों के मूर्तियां होंगी। मीडिया प्रभारी मनोज जैन बताते हैं कि समवशरण में 92 प्रतिमाओं के अलावा चार स्तंभ, 72 चैत्यालय, 8 भूमियां, 12 सभाएं होंगी। इसके अलावा 3 र|मयी पांडुकशिला के ऊपर कमलासन बनेंगे। जिन पर भगवान महावीर स्वामी की प्रतिमा विराजमान की जाएंगी।

बरासाें जैन मंदिर के इस स्थान पर बनेगा समवशरण।

समवशरण के बाहर बनेगा मानस्तंभ

समवशरण के बाहर 27 फीट ऊंचा मानस्तंभ बनाया जाएगा। जिसको बनाने में जयपुर के क्वारी पत्थर का उपयोग किया जाएगा। मीडिया प्रभारी मनोज जैन ने बताया कि क्वारी पत्थर ऐसा पत्थर है तो तीन हजार वर्ष तक कुछ नहीं बिगड़ता है। वहीं मानस्तंभ निर्माण के पीछे उद्देश्य है कि जब कोई श्रद्धालु समवशरण में आएगा तो वह स्तंभ को देखकर अपना मान-अभियान छोड़कर समवशरण के अंदर आए। समवशरण का निर्माण सवा करोड़ की लागत से किया जाएगा। इसको बनने में एक साल का समय लगेगा।

मंत्र पढ़कर आचार्यश्री करेंगे शुद्धि

बरासों जैन मंदिर में 6 से 12 मार्च तक आचार्यश्री विराग सागर महाराज और मुनि श्री विहसंत सागर महाराज के सानिध्य में पंचकल्याणक प्रतिष्ठा महोत्सव का आयोजन किया जाएगा। इस दौरान समवशरण में जो प्रतिमाएं विराजमान की जाएंगी। उन प्रतिमाओं के कानों में आचार्य विराट सागर महाराज सूर्य मंत्र का क्रमश: उच्चारण करेंगे। जिसके वे बाद वे प्रतिमाएं पूजा श्रद्धालुओं के द्वारा की जा सकेगी। इस निर्माण के पीछे खास बात है कि आचार्यश्री विराग सागर महाराज का सपना था कि अतिशय क्षेत्र बरासो जी का जीर्णोद्धार हो और यहां पर भगवान का एक भव्य समवशरण बने।

चंबल नदी तट और बरही जैन मंदिर में होंगे पंचकल्याणक प्रतिष्ठा महोत्सव

बरासों जैन मंदिर के अलावा इस वर्ष चंबल नदी तट महामृत्युंजय तीर्थक्षेत्र में 27 जनवरी से 2 फरवरी तक आचार्यश्री सौभाग्य सागर और मुनि सुर| सागर महाराज के ससंघ के सानिध्य में पंचकल्याणक प्रतिष्ठा महोत्सव आयोजन होने जा रहा है। इसी क्रम में अतिशय क्षेत्र बरही जैन मंदिर में आचार्यश्री विराग सागर महाराज के सानिध्य में 26 फरवरी से 3 मार्च तक पंचकल्याणक प्रतिष्ठा महोत्सव का आयोजन होगा। इस दौरान मंदिर परिसर में बरही जैन मंदिर के पास धर्मायतन जैन मंदिर में भगवान अजितनाथ की 21 फुट ऊंची प्रतिमा विराजमान की जाएगी। प्रतिमा के चारों और 24 तीर्थंकरों की प्रतिमाएं विराजमान होंगी।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

mpa25 3822654 large
Bhind News – mp news in the years the first 27 feet high god39s resolution of the district will be made with 125 million rupees

from Dainik Bhaskar https://ift.tt/30zYucI

Send Your News to +919458002343 email to [email protected] for news publication to eradioindia.com