हाथी, घोड़ा और बैंड के साथ निकली महायज्ञ की कलश यात्रा, 2500 कन्याओं समेत 10 हजार लोग हुए शामिल

मधुबनी प्रखंड में मधुबनी गंडक नदी के तट पर 16 जनवरी से 24 जनवरी तक आयोजित नवाह विष्णु महायज्ञ की भव्य कलश यात्रा गुरुवार को हाथी, घोड़े व गाजे-बाजे के साथ निकली तो पूरे इलाके का परिवेश भक्तिभाव से परिपूर्ण हो चला। इस कलश यात्रा में 2500 कन्याओं सहित आसपास के तमाम गांवों से जुटे 10 हजार लोगों ने उत्साहपूर्ण भागीदारी निभाई। गंडक तट स्थित यज्ञ स्थल से निकली कलश यात्रा ने मधुबनी, पिपरपांती, बगहवा, गदियानी टोला, रंगललही आदि गांवों का भ्रमण किया। इस दौरान भक्तिभाव से भरे नारे गूंजते रहे। अंतत: अयोध्या से पहुंचे विद्वान पंडितों के वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच यज्ञ कलश भरे गए, जिन्हें वापस लौटने पर यज्ञ मंडप में स्थापित किया गया। इसी के साथ पूजा-अर्चना की प्रक्रिया शुरू हुई।
कलश यात्रा में शामिल कन्याएं रंगललही
गांव पहुंची तो उनका सत्कार किया गया

कलश यात्रा भ्रमण करते हुए रंगललही गांव पहुंची तो पूर्व प्रमुख उदय प्रताप सिंह के दरवाजे पर कुंवारी कन्याओं को मीठा प्रसाद खिलाने के बाद पानी पिलाकर उनका सत्कार किया गया। कन्याओं के सत्कार में महायज्ञ समिति के सदस्यों, सामाजिक कार्यकर्ताओं समेत अन्य लोगों का उत्साह देखते बना। पूर्व प्रमुख उदय प्रताप सिंह व यशवंत प्रताप सिंह उर्फ गुड्डू बाबू ने बताया कि प्रत्येक वर्ष नवाह विष्णु महायज्ञ की कलश यात्रा में शामिल कन्याओं का सत्कार इसी उत्साह के साथ किया जाता है।
साधु-संतों समेत श्रद्धालुओं के लिए की गई है व्यवस्था
बताते चलें कि इस महायज्ञ में शामिल होने के लिए बड़ी संख्या में साधु संत पहुंचे हैं, जिनके रात्रि विश्राम के लिए बड़े बड़े टेंट लगाए गए हैं। पंडित राजेश चतुर्वेदी ने बताया कि आगामी 24 जनवरी तक चलने वाले इस महायज्ञ के दौरान धर्म, अध्यात्म व संस्कृति के विद्वान बारी-बारी से प्रवचन करेंगे। प्रवचन का यह सिलसिला प्रतिदिन चलता रहेगा। महायज्ञ आयोजन समिति के अध्यक्ष विकास सिंह ने बताया कि रोज रात में रामलीला व कृष्णलीला का मंचन होगा। यज्ञ परिसर में पहुंचे झूला व खेल तमाशे आदि भी श्रद्धालुओं के आकर्षण का केंद्र बनेंगे। बड़ी संख्या में दुकानदारों ने अपनी दुकानें भी सजा रखी हैं। श्रद्धालुओं, साधु – संतों व दुकानदारों को किसी प्रकार की परेशानी नहीं हो, इसका पूरा ख्याल रखा जाएगा। यज्ञ परिसर में महायज्ञ समिति के प्राधिकृत स्वयंसेवक सतत अपनी सेवा देंगे। महिला श्रद्धालुओं को किसी प्रकार का कष्ट नहीं हो, इसका खास ख्याल रखा जा रहा है। 24 जनवरी को पूर्णाहुति के बाद महायज्ञ का समापन होगा।
कलश यात्रा के दौरान देखते बना महायज्ञ आयोजन समिति के सदस्यों का उत्साह, पुलिस भी रही तत्पर
कलश यात्रा के दौरान महायज्ञ आयोजन समिति के सदस्य पूरे उत्साह के साथ जुटे रहे। समिति के अध्यक्ष विकास सिंह, कोषाध्यक्ष रामप्रताप कुशवाहा, व्यवस्थापक जनार्दन चौधरी, कोशील यादव, र|ेश गुप्ता, सुनील यादव, आमोद मिश्रा, रामू ठाकुर, मुखिया सुमित चौहान, यशवंत प्रताप सिंह उर्फ गुड्डू बाबू, मदन प्रताप सिंह, ओमप्रकाश गुप्ता, शत्रुघ्न सिंह, नत्थू चौधरी, प्रखंड के सांसद प्रतिनिधि जितेंद्र गुप्ता, पैक्स अध्यक्ष अजय कुमार राव उर्फ नीकू राव, भोला चौहान, राकेश चौधरी, अभय कुमार मिश्रा आदि खासे तत्पर रहे। धनहा थानाध्यक्ष शंभूशरण गुप्ता पुलिस बल के साथ कलश यात्रा में सुरक्षा व्यवस्था को लेकर मुस्तैद रहे। थानाध्यक्ष ने बताया कि महायज्ञ में श्रद्धालुओं को परेशानी नहीं हो, इसके लिए पुलिस टीम तत्पर है।
देवरिया कोर्ट के न्यायाधीश शिवेंद्र मिश्रा करेंगे महायज्ञ के रामलीला मंच का उद्घाटनमहायज्ञ के रामलीला मंच का उद्घाटन यूपी में देवरिया कोर्ट के न्यायाधीश शिवेंद्र मिश्रा गुरूवार की शाम में करेंगे। न्यायधीश शिवेंद्र मिश्रा मधुबनी गांव के ही रहनेवाले हैं। वे इस महायज्ञ में शामिल होने के लिए अपने गांव पहुंचे हैं। उनके आगमन से आयोजन समिति का उत्साह और भी बढ़ चला है।
Send Your News to +919458002343 email to [email protected] for news publication to eradioindia.com
Advertisement