Agricultural department ने धान की फसल के लिये जारी की एडवाइजरी, जानें 2 मिनट में

Agricultural department ने जारी की Paddy Crop Advisory, जानें 2 मिनट में

  • गन्धी कीट, धान का भूरा फूदका कीट व मक्का के फाॅल आर्मी वोर्म से बचायें फसल, करें सीमित मात्रा में कृषि रसायनों का उपयोग-जिला कृषि रक्षा अधिकारी प्रमोद सिरोही

मेरठ। Agricultural department ने धान की फसल 100 दिन पूरे होने पर एडवाइजरी ( Paddy Crop Advisory ) जारी कर किसानों को जागरूक किया है, कहा है कि किसान अपनी फसल की प्रतिदिन निगरानी करते रहें। जिला कृषि रक्षा अधिकारी Jila Krishi Raksha Adhikari Meerut मेरठ प्रमोद सिरोही ने किसान भाईयों से अपील करते हुये कहा कि धान की फसल लगभग 100 दिन की हो चुकी है फसल में इस समय बालियाँ निकल रही है क्षेत्र में सर्वेक्षण के समय धान में कहीं-कहीं गन्धी कीट, भूरा फूदका कीट देखने में आया है व मक्का की फसल में फाॅल आर्मी वोर्म कीट के प्रकोप की सम्भावना है अतः ऐसी स्थिति में आपसे अनुरोध है कि अपनी फसल की प्रतिदिन निगरानी करते रहे।

कीट व वार्म की पहचान कैसे करें, इसकी जानकारी दी

Jila Krishi Raksha Adhikari Meerut ने विभिन्न कीट जैसे गन्धी कीट, धान का भूरा फूदका कीट व मक्का के फाॅल आर्मी वोर्म की पहचान व उसके उपचार के बारे में जानकारी दी। जिला कृषि रक्षा अधिकारी मेरठ प्रमोद सिरोही ने Paddy Crop Advisory के तहत कीटो की पहचान एवं उपचार के बारे मे जानकारी देते हुये बताया कि गन्धी कीट की पहचान है कि यह कीट फसल की दुग्धावस्था में बालियों पर बैठकर दानों का रस चूसता है जिससे बाली में दाने नहीं बनते और जिसके कारण फसल की पैदावार प्रभावित हो जाती है।

Agricultural department की एडवाइजरी में नाइट्रोजन पर पाबंदी

Jila Krishi Raksha Adhikari Meerut ने Paddy Crop Advisory के तहत इसके उपचार के बारे में बताया कि धान की फसल में नाइट्रोजन का प्रयोग बन्द कर दे और कीट का प्रकोप होने पर इमिडाक्लोप्रिड 17.8 प्रतिशत का 0.300 ली0/है0 (500-600 ली0 पानी के साथ स्प्रै करें या मिथाइल पैराथियान 2 प्रतिशत धूल का 25 कि0ग्रा0/है0 बुरकाव करे या मैलाथियान 5 प्रतिशत धूल का 25 कि0ग्रा0/है0 में बुरकाव करे।

Agricultural department की Paddy Crop Advisory के मुताबिक उन्होने बताया कि धान का भूरा फूदका कीट की पहचान है कि वह धान की फसल में यह कीट जड़ से ऊपर तने पर बैठकर पौधे का रस चूसता रहता है इस कीट का प्रकोप बहुत तेजी से बढता है और यह खेत में जगह-जगह रस चूसकर पौधो को सुखा देता है। जिसके कारण फसल जगह-जगह जली सी व सुखी सी नजर आती है।

Jila Krishi Raksha Adhikari Meerut ने इसके उपचार के बारे में बताया

Agricultural department की Paddy Crop Advisory में धान की फसल में नाइट्रोजन का प्रयोग बन्द कर दे साथ ही इमिडाक्लोप्रिड 17.8 प्रतिशत का 0.300 ली0/है0 या डायमैथोएट 30 प्रतिशत का 1.250 ली0/है0 या बी0पी0एम0सी0 50 प्रतिशत का 1 ली0/है0 या डाईक्लोरोवास 76 प्रतिशत का 0.500 ली0/है0 या ब्युप्रोफेजिन 25 प्रतिशत का 0.600 ली0/है0 या थायोमैथाक्सम 25 प्रतिशत का 0.500 कि0ग्रा0/है0 में से किसी एक कृषि रक्षा रसायन का 500-600 ली0 पानी के साथ स्प्रै करे सर्वप्रथम जिस स्थान पर कीट का प्रकोप है और इसके पष्चात पूरे खेत में स्प्रै कर दें।

Agricultural department ने धान की फसल के लिये जारी की एडवाइजरी, जानें 2 मिनट में
Agricultural department ने धान की फसल के लिये जारी की एडवाइजरी, जानें 2 मिनट में

फाॅल आर्मी वोर्म मक्का की फसल को इस कीट की लार्वा अवस्था हानि पहुँचाती है

उन्होने बताया कि मक्का के फाॅल आर्मी वोर्म की पहचान है कि मक्का की फसल को इस कीट की लार्वा अवस्था हानि पहुँचाती है यह कीट गहरे धुसर रंग का होता है और इसकी पीठ पर तीन धारियों पर छोटे छोटे काले धब्बे दिखाई पड़ते है। इसके सिर का आकार उल्टे वी की तरह होता है इस कीट का लार्वा मक्का फसल की पत्तियों पर लम्बवत या गोल छिद्र करता है इसके साथ ही दानों को भी नष्ट करता है।

लार्वा का इलाज करने का सरल तरीका

Jila Krishi Raksha Adhikari Meerut ने इसके उपचार के बारे में बताया कि क्यूनालफास 25 प्रतिशत का 1.5 ली0/है0 या प्रोफेनोफास 40 प्रतिशत$ साइपरमैथ्रिन 5 प्रतिशत का 1.25 ली0/है0 या क्लोरोपायरीफास 20 प्रतिशत का 1.5 ली0/है0 में से किसी भी एक कृषि रसायन का 500-600 ली0 पानी में मिलाकर स्प्रै करें।

इस तरह से Agricultural department की एडवाजरी के तहत किसानों को जागरूक करने का कार्य किया जा रहा है, किसानों को चाहिये कि वो अपने धान की खेती को इसी आधार पर करें ताकि उनका नुकसान कम से कम हो।




email: eradioindia@gmail.com || info@eradioindia.com || 09458002343

अगर आप भी अपना समाचार/ आलेख/ वीडियो समाचार पब्लिश कराना चाहते हैं या आप लिखने के शौकीन हैं तो आप eRadioIndia को सीधे भेज सकते हैं। इसके अलावा आप फेसबुक पर हमें लाइक कर सकते हैं और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं। मेरी वीडियोस के नोटिफिकेशन पाने के लिए आप यूट्यूब पर हमें सब्सक्राइब करें। किसी भी सोशल मीडिया पर हमें देखने के लिए टाइप करें कि eRadioIndia.

https://eradioindia.com/work-with-us/
Don't wait just take initiation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *