हाथरस घटना को लेकर आक्रोश, कामकाज ठप कर हड़ताल

मेरठ। हाथरस की बेटी को इंसाफ दिलाने के लिए मेरठ, सहारनपुर सहित आसपास के जिलों में गुरुवार को नगर निगम के सफाई कर्मचारियों और वाल्मीकि समाज ने आंदोलन शुरू कर दिया। सुबह शहर की सफाई ठप कर दी गई। इसके बाद नगर निगम परिसर में सफाई कर्मचारी नेताओ ने धरना शुरू कर दिया। सफाई कर्मचारियों के समर्थन में नगर निगम के अन्य कर्मचारी संगठन भी उतर आए। जिससे नगर निगम में भी काम काम बंद हो गया।

डीएस 4 के राष्ट्रीय अध्यक्ष रमेश चंद्र गहरा, सफाई कर्मचारी नेता कैलास चंदोला, राजू धवन समेत अन्य सफाई कर्मचारी नेताओं ने सुबह शहर में सफाई कार्य बंद कराया। इसके बाद सुबह 11 बजे नगर निगम परिसर पहुँचे। नगर निगम परिसर में धरना शुरू कर दिया। धरने पर जमकर प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। बेटी हम शर्मिंदा हैं, तेरे कातिल जिंदा हैं …जैसे नारे लगाकर हाथरस की बेटी के लिए इंसाफ की गुहार लगाई। वाल्मीकि समाज और सफाई कर्मचारी नेताओ ने मांग की है कि पीडि़त परिवार को सरकार एक करोड़ का मुआवजा दे।

एसआईटी की जांच पर असंतोष जताते हुए कहा कि सीबीआई जांच कराई जाए। पूरे प्रकरण में लापरवाही बरतने वाले पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों की सेवा समाप्त की जाए। डीएस 4 के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि हाथरस की बेटी के साथ रिपोर्ट लिखने से लेकर इलाज तक मे लापरवाही हुई है। उन्होंने कहा कि अगर सरकार शुरू से इस मामले में सजग होती तो शायद आंदोलन करने की नौबत न आती। उधर, सुबह सफाई ठप होने पर एडीएम सिटी अजय कुमार तिवारी और अपर नगर आयुक्त श्रद्धा शांडिलयायन ने सिविल लाइंस और जेल चुंगी में सफाई शुरू कराई। लेकिन वाल्मीकि समाज के युवाओं ने बाइक रैली निकालकर सफाई बंद करवा दी।




email: eradioindia@gmail.com || info@eradioindia.com || 09458002343

अगर आप भी अपना समाचार/ आलेख/ वीडियो समाचार पब्लिश कराना चाहते हैं या आप लिखने के शौकीन हैं तो आप eRadioIndia को सीधे भेज सकते हैं। इसके अलावा आप फेसबुक पर हमें लाइक कर सकते हैं और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं। मेरी वीडियोस के नोटिफिकेशन पाने के लिए आप यूट्यूब पर हमें सब्सक्राइब करें। किसी भी सोशल मीडिया पर हमें देखने के लिए टाइप करें कि eRadioIndia.

https://eradioindia.com/work-with-us/
Don't wait just take initiation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *