Samajvadi Party MLA Nahid Hasan व प्रशासन के बीच टला टकराव

Samajvadi Party MLA Nahid Hasan व प्रशासन के बीच टला टकराव

  • संवाददाता || ई-रेडियो इंडिया

Samajvadi Party MLA Nahid Hasan व प्रशासन के बीच टकराव के बाद कैराना में जेल भरो आंदोलन की आग ठण्डी पड़ गई व टकराव टल गया है। आंदोलन के ऐलान के बाद क्षेत्र के हालातों के मद्देनजर चप्पे—चप्पे पर फोर्स की तैनाती के चलते कैराना पूरी तरह से शांत रहा। विधायक ने पुलिस उत्पीड़न के खिलाफ राज्यपाल के नाम एसडीएम को ज्ञापन सौंपा है।

  • पुलिस उत्पीड़न के खिलाफ विधायक ने सौंपा ज्ञापन, जेल भरो आंदोलन को लेकर चप्पे—चप्पे पर तैनात रहा फोर्स

सोमवार को कैराना से समाजवादी पार्टी के विधायक चौधरी नाहिद हसन (Samajvadi Party MLA Nahid Hasan) के पुलिस के उत्पीड़न के खिलाफ जेल भरो आंदोलन के आह्वान को लेकर समर्थकों के बीच खासा जोश देखने को मिला। सुबह से ही नगर व ग्रामीण क्षेत्रों से समर्थकों की भीड़ के विधायक के आवास की ओर कूच करने लगी। भीड़ न जुटे, इसके लिए पहले ही प्रशासन—पुलिस की ओर से कड़े इंतजामात कर दिए गए। गांवों से आने वाले भूरा रोड, खुरगान रोड, रामडा रोड, आर्यपुरी देहात आदि पर पुलिस ने बैरियर लगा दिए। जैसे ही समर्थक बैरियर पर पहुंचे, तो उन्हें पुलिस द्वारा रोक दिया गया। इसके बाद समर्थक जैसे—तैसे करके नगर में पहुंच गए तथा विधायक के आवास की ओर बढ़ने लगे।

Samajvadi Party MLA Nahid Hasan व प्रशासन के बीच टला टकराव
Samajvadi Party MLA Nahid Hasan व प्रशासन के बीच टला टकराव

Samajvadi Party MLA Nahid Hasan के आवास के पास भारी फोर्स की तैनाती के चलते फिर से समर्थकों को रोकने का प्रयास किया गया। हजारों समर्थक विधायक के आवास तक भी पहुंच गए। बाद में विधायक की ओर से राज्यपाल के नाम एसडीएम कैराना को ज्ञापन पत्र दिया गया। इस दौरान विधायक की मां एवं पूर्व सांसद तबस्सुम हसन भी मौजूद रहीं। उधर, ज्ञापन दिए जाने के बाद विधायक और प्रशासन के बीच टकराव भी होने से टल गया। भले ही विधायक के जेल भरो आंदोलन को लेकर हजारों समर्थकों की भीड़ जुटी हो, लेकिन कैराना पूरी तरह से शांत रहा। इससे प्रशासन ने भी राहत की सांस ली है।

हमेशा लड़ेंगे इंसाफ व मान-सम्मान की लड़ाई: Samajvadi Party MLA Nahid Hasan

कैराना। विधायक नाहिद हसन ज्ञापन देने से पूर्व मोहल्ला आलदरम्यान में ही स्थित चबूतरे पर अपने समर्थकों के बीच पहुंचे। इस दौरान विधायक ने कहा कि वह क्षेत्र की जनता के साथ में ज्यादती कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे। आरोप लगाया कि यहां पुलिस द्वारा गरीब एवं पीड़ितों पर जुल्म किया है। वह अपनी जनता के लिए जेल जाने को तैयार हैं, लेकिन उत्पीड़न सहन नहीं किया जाएगा। विधायक ने कहा कि वह हमेशा न्याय और मान—सम्मान की लड़ाई लड़ते रहेंगे।

ज्ञापन में आरोप लगाए तो मांगें भी रखी

Samajvadi Party MLA Nahid Hasan ने राज्यपाल के नाम दिए ज्ञापन में पुलिस पर आरोप भी लगाए हैं और कई मांगें भी रखी है। ज्ञापन में उन्होंने आरोप लगाया कि जहानपुरा में एक ग्रामीण को थाने की हवालात में बंद करके पुलिस द्वारा 20 हजार रूपये में दो दिन बाद छोड़ा गया। बारातियों के साथ हुई मारपीट के प्रकरण में पीड़ित को ही कैराना कोतवाल द्वारा अवैध हिरासत में रखा गया। गांव मन्नाजरा रसे महिलाओं को उठाया गया। विधायक ने ज्ञापन में कहा कि जनता के उत्पीड़न को लेकर उनके द्वारा कोतवाली प्रभारी से दूरभाष पर वार्ता की गई, लेकिन उत्पीड़न बंद नहीं ​हुआ।

जब वह पीड़ितों की संतुष्टि के लिए कोतवाली पहुंचे, तो उनके साथ में अमर्यादित भाषा का प्रयोग किया गया और विधानसभा सदस्य होने के नाते विशेष अधिकारों का भी उल्लंघन किया गया। उन पर निजी अपमानजनक टिप्पणी की गई। इसकी रिकॉर्डिंग भी पास होने की बात कही गई है। अगले दिन उन पर और 30—40 समर्थकों पर मुकदमा दर्ज किया गया, यह फर्जी है।

उन्होंने उपरोक्त प्रकरणों की जांच कराकर पीड़ितों को दिलाया जाए तथा कोतवाली प्रभरी के विरूद्ध जांच कराने के साथ ही उनका स्थानांतरण किए जाने, उन पर दर्ज एफआईआर को समाप्त कराए जाने के साथ—साथ विशेष अधिकारों के हनन एवं अमर्यादित भाष का प्रयोग करने की जांच हेतु उप्र विधानसभा अध्यक्ष को पत्र प्रेषित करने की मांग की है।

Samajvadi Party MLA Nahid Hasan व प्रशासन के बीच टला टकराव
Samajvadi Party MLA Nahid Hasan व प्रशासन के बीच टला टकराव

कैसे आंदोलन तक पहुंची नौबत

गत 29 अक्टूबर को विधायक नाहिद हसन (Samajvadi Party MLA Nahid Hasan) कुछ लोगों के साथ में कैराना कोतवाली पहुंचे थे। जहां कुछ मामलों को लेकर उनकी कोतवाली प्रभारी निरीक्षक से नोकझोंक हो गई थी। मौके पर सीओ ने पहुंचकर आश्वासन देते हुए मामला शांत कराया था। विधायक ने सीओ को मामलों से अवगत कराते हुए पीड़ितों को ही जेल भेजने व उनकी बोली लगाने जैसे संगीन आरोप लगाए थे। विधायक ने उसी दिन शाम को प्रेसवार्ता कर जेल भरो आंदोलन का ऐलान कर दिया था। हालांकि, कोतवाली में घटित मामले को लेकर पुलिस की ओर से विधायक व उनके समर्थकों के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज किया हुआ है।

कैराना हुआ छावनी में तब्दील

Samajvadi Party MLA Nahid Hasan के जेल भरो आंदोलन को लेकर एहतियातन कैराना में पीएसी, आरआरएफ के अलावा भारी पुलिस बल की तैनाती की गई थी। इसके चलते कैराना छावनी में तब्दील रहा। चप्पे—चप्पे पर पुलिस सतर्क रही। अधिकारी​ निरंतर कस्बे में गश्त करते रहे। ड्रोन कैमरे से भी हर गतिविधियों पर कड़ी नजर रखी गई।

सेलर पर टिकी रही निगाहें

विधायक नाहिद हसन की ओर से आर्यपुरी स्थित अपने सेलर में 50 हजार लोगों के साथ में धरना व गिरफ्तारी देने की अनुमति मांगी गई थी, लेकिन प्रशासन ने कोविड—19, जिले में धारा—144 लागू होने तथा त्योहारों के दृष्टिगत अनुमति नहीं दी थी। लेकिन, विधायक के आंदोलन पर अडिग होने के चलते सोमवार को सेलर पर जाने वाले रास्ते पर पुलिस द्वारा बैरिकेडिंग कर दी गई थी। इसके साथ ही, एक थानाध्यक्ष व आरआरएफ के जवानों की तैनाती रही। अधिकारी भी यहां पहुंचकर पल—पल की जानकारी और हालातों का जायजा लेते नजर आए।

Samajvadi Party MLA Nahid Hasan के आवास पर भी तैनात रहा फोर्स

मोहल्ला आलदरम्यान स्थित विधायक नाहिद हसन के आवास पर भी एहतियात के तौर पर फोर्स को तैनात किया गया था। इसके अलावा विधायक के आवास की ओर से जाने वाले रास्ते पर बैरियर भी लगाया गया था, जहां से समर्थकों की भीड़ को जाने नहीं दिया जा रहा था। यहां पर एसडीएम उद्भव त्रिपाठी व सीओ जितेंद्र कुमार तैनात रहे। जबकि अन्य अधिकारी भी जायजा लेते रहे।

डीएम व एसपी ने डेरा डाला

कैराना। जेल भरो आंदोलन को लेकर डीएम जसजीत कौर व एसपी नित्यानंद रॉय सुबह के समय कोतवाली में पहुंच गए। वह कोतवाली से ही क्षेत्र के हालातों के बारे में जायता लेते रहे और अधीनस्थ अमले को आवश्यक दिशा—निर्देश जारी करते रहे। उधर, एडीएम अरविंद कुमार सिंह ने बाजार का भ्रमण करते हुए विधायक के आवास पर की गई व्यवस्थाओं का जायजा लिया।

बाजारों में नहीं दिखा असर, खुली दुकानें

कैराना। नगर के मुख्य चौक बाजार सहित अन्य बाजारों में विधायक के जेल भरो आंदोलन का कोई असर देखने को नहीं मिला। यहां पूर्व की भांति अधिकतर दुकानें खुली रही। यही नहीं, बाजारों में लोगों की आवाजाही भी देखने को मिली।

धरना देने का भी हुआ प्रयास

कैराना। विधायक के आवास के निकट कुछ समर्थकों को जब पुलिस द्वारा रोक दिया गया, तो उनमें कुछ समर्थक सड़क पर ही बैठ गए और धरना देने का प्रयास किया गया। मौके पर मौजूद सीओ जितेंद्र कुमार ने समर्थकों को कानून के बारे में अवगत कराया। इसके बाद समर्थक मान गए।

प्रशासन ने किए थे पुख्ता इंतजाम

कैराना। अनुमति नहीं मिलने के बाद भी विधायक के आंदोलन पर अडिग होने के चलते प्रशासन की ओर से पहले की पुख्ता इंतजाम कर लिए गए थे। चौक बाजार व बाईपास रोड आदि पर दमकल की गाड़ी भी खड़ी की गई थी, ताकि कोई भी इस तरह की परिस्थिति सामने आएं, तो उस पर काबू पाया जा सके। हालांकि, यहां माहौल पूरी तरह से शांत रहा।

Shop now

अब तक का घटनाक्रम

  • 29 अक्टूबर: सपा विधायक ने दोपहर के समय समर्थकों के साथ कैराना कोतवाली पहुंचकर पुलिस पर निर्दोषों पर कार्रवाई करने का आरोप लगाया था। इस दौरान पुलिस से विधायक की नोकझोंक भी हुई थी।
  • 29 अक्टूबर: शाम के समय विधायक ने कैराना स्थित अपने आवास पर प्रेसवार्ता करते हुए दो नवंबर को जेल भरो आंदोलन की चेतावनी दी थी।
  • 31 अक्टूबर: विधायक ने 50 हजार समर्थकों के साथ धरना व गिरफ्तारी देने की अनुमति हेतु उपजिला मजिस्ट्रेट कार्यालय में पत्र दिया।
  • 31 अक्टूबर: भाजपा के दो स्थानीय नेताओं ने विधायक पर पलटवार किया। साथ ही, कानून व्यवस्था के उल्लंघन की कोशिश का आरोप लगाया।
  • 31 अक्टूबर: विधायक को अपने सेलर में 50 हजार समर्थकों के साथ धरना व गिरफ्तारी देने की अनुमति न दिए जाने के उपजिला मजिस्ट्रेट ने आदेश दिए।
  • 01 नवंबर: विधायक की जेल भरो आंदोलन की चेतावनी को लेकर पब्लिक इंटर कॉलेज में पुलिस व पीएसी ने दंगा नियंत्रण ड्रिल किया। एसपी ने फोर्स के साथ फ्लैग मार्च किया।
  • 01 नवंबर: विधायक ने जेल भरो आंदोलन के लिए दिनभर क्षेत्र का दौरा कर लोगों से समर्थन जुटाया। साथ ही, समर्थकों से शांतिपूर्ण विरोध करने की अपील की।
  • 02 नवंबर: विधायक द्वारा ज्ञापन देने के बाद जेल भरो आंदोलन मामला शांत हो गया।



email: eradioindia@gmail.com || info@eradioindia.com || 09458002343

अगर आप भी अपना समाचार/ आलेख/ वीडियो समाचार पब्लिश कराना चाहते हैं या आप लिखने के शौकीन हैं तो आप eRadioIndia को सीधे भेज सकते हैं। इसके अलावा आप फेसबुक पर हमें लाइक कर सकते हैं और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं। मेरी वीडियोस के नोटिफिकेशन पाने के लिए आप यूट्यूब पर हमें सब्सक्राइब करें। किसी भी सोशल मीडिया पर हमें देखने के लिए टाइप करें कि eRadioIndia.

https://eradioindia.com/work-with-us/
Don't wait just take initiation

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *