Scissors in Meerut

Scissors in Meerut: मेरठ की कैंची का डंका विश्व में बज रहा, लेकिन?

  • नितिन कुमार || ई-रेडियो इंडिया

Scissors in Meerut: कैंची की धार मेरठ से लेकर अन्तर्राष्ट्रीय पटल पर अलग पहचान बनाये हुये है। मंदी की जंग से 350 साल पुरानी कैंची इंडस्ट्री की धार अब कम होती जा रही है। मेरठ में खास किस्म की कैंची (Scissors in Meerut) को जन्म देने वाले आखुन का नाम उत्तर प्रदेश के गजेटियर में दर्ज है। उद्यमियों की मानें तो देश में पहली बार किसी उत्पाद को जीआई टैग (जियोलाजिकल इंडिकेशन टैग) मिला। इसके चलते कैंची को मेरठ की धरोहर माना गया है, लिहाजा कोई दूसरा इसे नहीं बना सकता।

यहां की कैंची खाड़ी, अफ्रीकी देशों व श्रीलंका तक भेजी जाती रही हैं। सैलून, घरेलू प्रयोग व टेक्सटाइल्स कारोबार में बड़ी मात्र में कैंची की खपत है। वस्त्र उद्योग में कैंची की खपत 60 फीसद तक घट गई।

Advertisement

Scissors in Meerut at a glance

  • कैंची कारोबार-करीब 350 वर्ष पुराना
  • सालाना टर्नओवर-30 करोड़
  • विशेषता-जीआई टैग मिला-कोई अन्य मेरठ के नाम से नहीं बेच सकता
  • कुल इकाइयां-200, करीब 75 बंद पड़ी
  • प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रोजगार-50, 000 
Scissors in Meerut at a glance
Scissors in Meerut at a glance

Scissors in Meerut काे बढ़ावा देने के लिये चीन की तर्ज पर विकसित करने की योजना खटाई में

कैंची उद्योग (Scissors in Meerut) को चीन की तर्ज पर विकसित करने और बेहतरीन डिजाइन की कैंची बनाने के लिए MSME ने पांच वर्ष पहले करीब चार करोड़ रुपये की लागत से लोहियानगर में क्लस्टर बनाया, किंतु मंदी की वजह से केंद्र सूना पड है। यहां अब फोर्जिग टेंपरिंग, मार्किंग भी नहीं हो रही है।

जिला उद्योग केंद्र की अगुआई में इस केंद्र को इसलिए बनाया गया, ताकि यहां की कैंची चीनी हुनर का मुकाबला कर सके। कारोबारियों की मानें तो चीन से बड़ी मात्र में अंडर बिलिंग की कैंची मंगाई जा रही हैं। मशीन निर्मित होने से इन कैंचियों का डिजाइन सटीक है, जबकि मेरठ (Scissors in Meerut) में अब भी हाथ से कैंची बनाई जाती है।

इस समाचार के प्रायोजक हैं शिवांगी डेरी, मेरठ।

Tags: मेरठ की कैंची, कैंची बाजार मेरठ, कैंची कारोबारी मेरठ, मेरठ में कैंची कहां मिलती है, Scissors of meerut, meerut Scissors market, Scissors bazar in meerut,




email: eradioindia@gmail.com || info@eradioindia.com || 09458002343

अगर आप भी अपना समाचार/ आलेख/ वीडियो समाचार पब्लिश कराना चाहते हैं या आप लिखने के शौकीन हैं तो आप eRadioIndia को सीधे भेज सकते हैं। इसके अलावा आप फेसबुक पर हमें लाइक कर सकते हैं और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं। मेरी वीडियोस के नोटिफिकेशन पाने के लिए आप यूट्यूब पर हमें सब्सक्राइब करें। किसी भी सोशल मीडिया पर हमें देखने के लिए टाइप करें कि eRadioIndia.

https://eradioindia.com/work-with-us/
Don't wait just take initiation

One Reply to “Scissors in Meerut: मेरठ की कैंची का डंका विश्व में बज रहा, लेकिन?”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *