कश्मीरी शॉल, शूट और साड़ियां डिमांड में, खूब हो रही खरीदारी

मंदार महोत्सव में ग्राम श्री मेला अपनी खास जगह बना चुका है। ग्राम श्री मेले में कुल 27 काउंटर बनाए गए हैं, जहां पर विभिन्न प्रांतों के दुकानदारों ने अपनी दुकान सजाई है। कश्मीर से लेकर उत्तर भारत के विभिन्न राज्यों से दुकानदार ग्राम श्री मेले में पहुंचे हैं, जो अपने उत्पादों को बेच रहे हैं। इस बार कश्मिरी शॉल, शूट और साड़ियों ने ग्राम श्री मेले में गर्मी बनाए हुए है। इस बार कश्मीरी प्रोडक्ट पर ग्राहक ज्यादा ही मेहरबान हंै। कश्मीर के श्रीनगर निवासी शब्बीर अहमद एवं इमरान हुसैन ने बताया कि इस बार पिछले 2 साल के मुकाबले ग्राहकों की दिलचस्पी बढ़ी है। ग्राम श्री मेला में अब उन्हें मुनाफा होने लगा है। पहले जहां लोग 5000 तक की शॉपिंग करते थे, वहीं अब 50,000 से ज्यादा एक बार में शॉपिंग कर रहे हैं। वहीं उनके पास 1 लाख 25 हजार की पशमीना शॉल, 5000 की सूट व एक हजार रुपए के स्वेटर भी मौजूद हैं।

उत्तरप्रदेश के कई प्रोडक्ट ग्राम श्री मेले में हैं मौजूद
उत्तरप्रदेश के भदोही, कन्नौज, सहारनपुर सहित अन्य जिलों से विभिन्न प्रोडक्टों को लेकर दुकानदार ग्राम श्री मेला में पहुंचे हैं। सहारनपुर निवासी जावेद ने बताया कि इस बार फर्नीचर को लेकर ग्राहकों में कम दिलचस्पी है। अभी मेला शुरुआती दौर में ही है लेकिन उन्हें उम्मीद है कि धीरे-धीरे बाजार तेजी पकड़ेगा।जयपुरी रजाई 15०० रुपए में उपलब्ध हो रही है। भदोही निवासी अजहरुद्दीन ने बताया कि जयपुरी रजाई को लेकर भी ग्राहकों में दिलचस्पी है। कम दाम होने की वजह से लोग जयपुरी रजाई हाथों-हाथ ले रहे हैं।
ग्राम श्री मेले में बढ़ी हाथों से तैयार शॉल और साड़ी की डिमांड
शब्बीर अहमद ने बताया कि उनके दुकान में हाथ से बने साड़ी शॉल व अन्य वस्त्र हैं, जिससे लोगों में खरीदारी को लेकर दिलचस्पी है। उन्होंने बताया कि उनके परिवार वाले खुद कश्मीर में हाथ से कपड़े तैयार करते हैं। अगर मेले में कपड़े कम पड़ जाते हैं तो वह कोरियर से 48 घंटे में प्रोडक्ट कश्मीर से ग्राम श्री मेला में मंगा सकते हैं।

Send Your News to +919458002343 email to [email protected] for news publication to eradioindia.com
Advertisement