होम शिक्षा ओशो हिंदी प्रवचन

ओशो हिंदी प्रवचन

Osho hindi pravachan, Osho hindi quotation, osho meditation method in hindi, osho discourses in hindi, what osho says in hindi, osho biography in hindi

गीता दर्शन में ओशो ने क्या कुछ कहा जरूर पढ़ें

पश्चिम का इस समय का एक बहुत कीमती मनोवैज्ञानिक अभी-अभी गुजरा है। उसका नाम था अब्राहम मैसलो। अब्राहम मैसलो के पूरे जीवन की खोज एक छोटे-से शब्द में समा जाती है। और वह शब्द...
Osho Rajanish

Inner Ecology: The Only Way to Building a Healthy Humanity

SATYA VEDANT We are a wounded civilization. The enormously vast expenditure (currently estimated to be over two billion dollars per day in developed countries), loss of life, wastage and misuse of energy as well as...

साक्षी और तथाता में भेद बताने की कृपा करें

साक्षी में द्वैत मौजूद है। साक्षी अपने को अलग, और जिसे जान रहा है, उसे अलग मानता है। अगर उसके पैर में कांटा गड़ा है, तो साक्षी कहता है, मुझे नहीं गड़ा, मैं जानने...
प्रभु की पुकार हमें कैसे सुनाई देगी?

प्रभु की पुकार हमें कैसे सुनाई देगी?

प्रभु को पुकारें कैसे, यह तो बहुत लोग पूछते हैं, प्रभु की पुकार कैसे सुनाई दे, यह कभी-कभी कोई पूछता है। इसलिए प्रश्न महत्वपूर्ण है, विरल है, थोड़ा बेजोड़ है। और सत्य के ज्यादा...
Osho Image

अष्‍टावक्र महागीता प्रवचन: मृत्यु का बड़ा भय है, क्या इससे छूटने का कोई उपाय...

ओशो: अष्‍टावक्र महागीता प्रवचन : 88परमात्‍मा अनुमान नहीं, अनुभव है—प्रवचन—तैहरवां🌷💜🌷 चौथा प्रश्न : मृत्यु का बडा भय है। क्या इससे छूटने का कोई उपाय है? मत्यु तो उसी दिन हो गयी जिस दिन तुम जन्मे। अब छूटने...
Osho Rajanish

ओशो प्रवचनों से संकलित हिंदी बोध कथा

मैंने सुना है, मुसलमान टेलर था, दर्जी था। वह बीमार पड़ा। करीब—करीब। मरने करीब पहुंच गया था। आखिरी जैसे घड़िया गिनता था, कि रात उसने एक सपना देखा कि वह मर गया और कब्र...
मृत्यु के क्षण में लोग तड़फते क्यों हैं?

मृत्यु के क्षण में लोग तड़फते क्यों हैं?

तुमने किसी पक्षी को मरते देखा ? ऐसे सरल, ऐसे सहज, चुपचाप विदा हो जाता है! पंख भी नहीं फड़फड़ाता। शोरगुल भी नहीं मचाता। पक्षी तो इतने चुपचाप विदा हो जाते हैं, इतनी सरलता...
कितनी बेहूदगी की बात है, पूजा करने के लिए भी नौकर!

कितनी बेहूदगी की बात है, पूजा करने के लिए भी नौकर!

प्रेम और पूजा के लिए भी नौकर! उसे भी तुम दूसरे से करवा लेते हो पैसे के बल पर। तो अगर तुमने एक पुजारी को सौ रुपया महीना दिया, और उसने रोज आकर तीन...
मरने से पहले की व्यकुलता को समझ लो तो संशय दूर हो जाएगा: ओशो

मरने से पहले की व्याकुलता को समझ लो तो संशय दूर हो जाएगा: ओशो

एक फकीर हुआ, एक व्यक्ति निरंतर उसके पास आता था। एक दिन आकर उस व्यक्ति ने उस फकीर को पूछा: आपका जीवन इतना पवित्र है, आपके जीवन में इतनी सात्विकता है, आपके जीवन में...
ओशो: मर्द और औरत के बीच का ये संबंध होना चाहिए

ओशो: मर्द और औरत के बीच का ये संबंध होना चाहिए

प्रश्‍न–एक पुरूष और एक स्‍त्री के बीच किस प्रकार का प्रेम संबंध की संभावना है, जो की सेडोमेसोकिज्‍म (पर-आत्‍मपीड़क) ढांचे में न उलझा हो? ओशो—यह एक अत्‍यंत महत्‍वपूर्ण प्रश्‍न है। धर्मों ने इसे असंभव कर...
error: Copyright: mail me to [email protected]