गाजियाबाद में बदमाश ने पत्रकार को मारी गोली, राजनीतिक गलियारे से उठी आवाज- यूपी में है ‘जंगलराज’

0
29

  • जनपद में बदमाशों के हौसले हुए बुलंद, बहन के घर से लौट रहे पत्रकार पर घात लगाए बेखौफ बदमाशों ने चलाई गोली
  • सर में गोली लगने से पत्रकार गंभीर रूप से घायल, अस्पताल में भर्ती, हालात नाजुक
  • पुलिस ने मामले में पकड़े 9 बदमाश, एक अभी भी फरार, अवैध असलहा बरामद लेकिन राजनीतिक गलियारे में आग की तरह फैल गई पुलिस की अनदेखी से पनपे इस अपराध की खबर

फाईज़ अली सैफी || ई-रेडियो इंडिया

गाज़ियाबाद। जनपद में बदमाशों के हौसले इतने बुलंद होते नज़र आ रहे कि बदमाशों ने रात्रि अपनी बहन के यहां से अपनी दो बेटियों समेत घर लौट रहे एक पत्रकार पर बेखौफ बदमाशों ने जान से मारने की नियत से अवैध असलहे से हमला बोल दिया। जिसमें, पत्रकार के सर में गोली लग गई हैं तथा वह गंभीर रूप से घायल हो गया हैं। जिसकी हालत अस्पताल में नाजुक बनी हुई हैं। वहीं, दूसरी तरफ वारदात की जानकारी मिलते ही पुलिस के आला अधिकारी गण मौके पर पहुंच गए थे तथा उन्होंने तत्काल कई टीमों का गठन भी कर दिया था….

पुलिस ने इस प्रकरण में अब तक 9 बदमाशों को गिरफ़्तार कर लिया हैं। इनके पास से अवैध असलहा भी बरामद हुआ हैं। वहीं, इनका एक साथी अभी फरार हैं, जिसकी तलाश भी की जा रही हैं।

यह हमला उस समय हुआ जब पत्रकार अपनी बहन के यहां अपनी दोनों बेटियों के साथ मोटरसाइकिल से अपने घर की ओर लौट रहा था, प्रताप विहार इलाके में घात लगाए बैठे बेखौफ बदमाशों ने पत्रकार को रोककर उसके सर में जान से मारने की नियत से गोली मार दी। जिससे वह गंभीर रूप से घायल होकर जमीन पर गिर गया, जिसे जनपद के स्थानीय यशोदा अस्पताल में भर्ती कराया गया हैं।

आपको बता दें कि यह हमला छेड़छाड़ का विरोध करने के बाद उपजे विवाद के कारण किया गया है। हमलावर बेखौफ बदमाशों ने कुछ दिन पहले थाना विजयनगर के प्रताप विहार निवासी विक्रम जोशी पत्रकार के परिवार की एक युवती पर टिया-टिप्पणी व छेड़खानी की थी। जिसके बाद रखते पीड़ित पत्रकार ने इन बदमाशों के विरुद्ध थाना विजयनगर में एक तहरीर देते हुए मुकदमा दर्ज कराया था तथा पुलिस से इनकी गिरफ़्तारी की मांग की थी। वहीं, दूसरी तरफ पत्रकार द्वारा की गई पुलिस से शिकायत के उपरांत बेखौफ बदमाशों ने पीड़ित पत्रकार को भुगत लेने की धमकी दी थी।

ऐसा प्रतीत हो रहा है कि पुलिस की लापरवाही के चलते बेखौफ बदमाशों ने पत्रकार के साथ जान से मार देने के प्रयास की वारदात को अंजाम दिया हैं। जिसको मद्देनज़र रखते एसएसपी कलानिधि नैथानी ने थाना विजयनगर के संबंधित चौकी प्रभारी उपनिरीक्षक को निलंबित कर दिया हैं। आपको बता दें कि 27 जून 2020 को भी विवेक त्यागी नाम के बिल्डर के गायब होने की रिपोर्ट थाना सिआनी गेट में दर्ज कराई गई है…. लेकिन इसमें भी पुलिस ने अभी तक कोई इोस कार्रवाई नहीं की है…. जिससे यह साफतौर जान पड़ता है कि गाजियाबाद पुलिस मामलों को सीरियस नहीं लेती…

कुछ दिन पूर्व ही गाजियाबाद के नोडल अधिकारी ने यह स्वीकार किया था कि पुलिस मुकदमों में कार्रवाई करा पाने में सफल साबित नहीं हो रही है…. 20 जून को सुप्रीम कोर्ट ने कानपुर के विास त्यागी एनकाउंटर में भी यह साफतौर पर कहा कि राज्य का तंत्र नाकाम है अन्यथा विकास त्यागी जैसा खूंखार अपराधी जेल से बाहर कैसे रहता? 

दो दिन पूर्व देखें किस तरह से अपनी पुलिस की पीठ थपथपा गये नोडल अधिकारी, लेकिन पुलिस की जमीनी हकीकत बिलकुल अलग है-

Send Your News to +919458002343 email to eradioindia@gmail.com for news publication to eradioindia.com