श्रीनगर में एक बार फिर हुआ कश्मीरी पंडित पर हमला

श्रीनगर में एक बार फिर हुआ कश्मीरी पंडित पर हमला
श्रीनगर में एक बार फिर हुआ कश्मीरी पंडित पर हमला

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में आज एक दुकान के अंदर आतंकवादियों द्वारा की गई गोलीबारी में एक व्यक्ति की मौत हो गई। दुकाम कश्मीरी पंडित की थी। गोलीबारी के तुरंत बाद, मोहम्मद इब्राहिम के रूप में पहचाने जाने वाले व्यक्ति को गंभीर हालत में अस्पताल ले जाया गया, लेकिन उसे मृत घोषित किया गया।इससे पहले बटमालू इलाके में रविवार की देर शाम आतंकियों ने एक पुलिसकर्मी की घर के बाहर गोली मारकर हत्या कर दी थी। घटना के बाद पूरे इलाके की घेराबंदी कर सर्च ऑपरेशन चलाया गया, लेकिन दो दिन बीतने के बाद भी आतंकियों का कोई सुराग हाथ नहीं लगा सका ।

पुलिस ने बताया कि एसडी कालोनी इलाके में आतंकियों ने पुलिसकर्मी तौसीफ अहमद (29) को करीब से गोली मारी। खून से लथपथ होकर वह मौके पर गिर पड़े। इसके बाद आतंकी मौके से फरार हो गए। आतंकियों के भागने के बाद स्थानीय लोगों ने पुलिसकर्मी को घायलावस्था में श्री महाराजा हरि सिंह अस्पताल पहुंचाया। यहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया था।

Advertisement

घ्यान रहे बीते दिनों कश्मीरी पंडितों, बाहर से आए हिंदू नागरिकों को आंतकियों द्वारा निशाना बनाने के कई मामले सामने आए है। कश्मीर में आतंकवादियों ने फेरीवाली, एक स्कूल के दो शिक्षकों सहित कई आम लोगों की हत्या कर दी थी। अक्टूबर का महीना इस साल का अब तक का सबसे खूनी महीना साबित हुआ है। एक ही महीने में आतंकी मुठभेड़ों में कुल 44 मौतें हुई हैं। एक तरफ सुरक्षा बलों ने 19 आतंकियों को एकाउंटर में ढेर किया है तो वहीं दूसरी तरफ 12 सुरक्षाकर्मियों की शहादत हुई है। इसके अलावा 13 नागरिकों की आतंकी हमलों में मौत हुई है।

इन घटनाओं के चलते घाटी से पलायन बढ़ा है। अब तक कोई 350 से ज्यादा परिवार निकल चुके हैं। हालांकि आतंकी हमलों के जवाब में सुरक्षा बलों ने कड़ी कार्रवाई की है। रविवार को आतंकियों ने एक पुलिसकर्मी की गोली मारकर हत्या कर दी। अधिकारियों ने बताया कि शहर के बटमालू इलाके में आतंकवादियों ने पुलिसकर्मी को निशाना बनाया।

इस बीच, नेशनल कॉन्फ्रेंस (नेकां) ने हमले की निंदा की है। पार्टी ने ट्वीट किया, “श्रीनगर के बटमालू में 29 वर्षीय पुलिसकर्मी पर किए गए कायरतापूर्ण हमले की स्पष्ट रूप से निंदा करते हैं जिसमें उसने अपनी जान गंवा दी। निंदा के लिए शब्द पर्याप्त नहीं होंगे।