तलाक के बाद इद्दत पर पति को बैठना चाहिए: महजबी

244
मवाना के गाढ़ा चौक निवासी महजबी के लिए यह राह आसान नहीं थी। ससुरालियों के साथ लड़ाई लड़ना, घर से निकलकर कानून की मदद लेना और पर्दे से बाहर आना मुश्किलों से भरा था। महजबी नाज़ का कहना है कि शुरूआती दौर में काफी कठिनाइयों का सामना किया। क्योंकि जिंदा रहना था, इसलिए लड़ना जरूरी था।
मवाना के गाढ़ा चौक निवासी महजबी के लिए यह राह आसान नहीं थी। ससुरालियों के साथ लड़ाई लड़ना, घर से निकलकर कानून की मदद लेना और पर्दे से बाहर आना मुश्किलों से भरा था। महजबी नाज़ का कहना है कि शुरूआती दौर में काफी कठिनाइयों का सामना किया। क्योंकि जिंदा रहना था, इसलिए लड़ना जरूरी था।
  • मरकर नहीं, जिंदा रहकर मिलता है हक: महजबी
  • आयशा द्वारा उठाए गए खुदकशी के कदम को महजबी ने बताया गलत
  • सरकार का किया समर्थन, बोली, मुस्लिम महिलाओं के लिए भाजपा उठा रही सराहनीय कदम
  • लियाकत मंसूरी, मेरठ

गुजरात की आयशा दहेज की बलि चढ़ गई। वह जीना चाहती थी, शौहर के साथ जिंदगी बशर करना चाहती थी। उसकी ख्वाहिश, आरजू और तमन्नाएं उसी के साथ साबरमती में डूब गई। जिसने भी आयशा द्वारा बनाए गए वीडियो को देखा, वह अंदर तक हिल गया। अब आयशा दुनिया में नहीं है, लेकिन अभी भी ऐसी अनेकों आयशा हमारे बीच है, जिनको बचाना है, जिनका दहेज के लिए उत्पीड़न किया जा रहा है।

महिला दिवस के मौके पर एक ऐसी ही महिला से विशेष बातचीत हुई, जो दहेज की बलि चढ़ते-चढ़ते बच गई। इस महिला ने ससुरालियों के उत्पीड़न का जवाब दिया। कानून की मदद ली। अब वह उन महिलाओं को बचा रही है, जो ससुरालियों के उत्पीड़न का शिकार है। पति के जुल्मों का शिकार है। महिलाओं का लड़ना सीखा रही है।

मवाना के गाढ़ा चौक निवासी महजबी के लिए यह राह आसान नहीं थी। ससुरालियों के साथ लड़ाई लड़ना, घर से निकलकर कानून की मदद लेना और पर्दे से बाहर आना मुश्किलों से भरा था। महजबी नाज़ का कहना है कि शुरूआती दौर में काफी कठिनाइयों का सामना किया। क्योंकि जिंदा रहना था, इसलिए लड़ना जरूरी था।

सामाजिक संस्था अखिल भारतीय उपभोक्ता का सहारा मिला और फिर सब आसान होता गया। अब संस्था के साथ जुड़े हुए महजबी को 15 साल हो गए है, खुद इंसाफ पाया और कितनी ही महिलाओं को इंसाफ दिलाया जा चुका है। आयशा के बारे में महजबी का कहना है कि उसको खुदकशी नहीं करनी चाहिए थी।

एक लड़की की जब शादी हो जाती है तो उसका मायका खत्म हो जाता है। ससुराल वाले अगर उत्पीड़न करते हैं, तो आत्महत्या इसका हल नहीं है। लड़कियों को लड़ना चाहिए। हक मरकर नहीं मिलता, बल्कि जिंदा रहकर मिलता है।

प्रथाएं महिलाएं के लिए क्यों?

जरा सी बात पर पति तलाक दे देता है, फिर पत्नी को इद्दत पर बैठना पड़ता है। ये अत्याचार महिला के लिए ही क्यों? सती प्रथा भी महिला के लिए थी और इद्दत जैसी प्रथा भी महिलाओं के लिए, इसको बदलना चाहिए। पति घर के बाहर रहकर मौज उड़ाता है और पत्नी घर के अंदर चारदीवारी में सिसकती रहती है। महजबी का कहना है कि इद्दत पर पत्नी को नहीं, पति को बैठना चाहिए। उलमाओं को आगे आकर महिलाओं का समर्थन करना चाहिए, तभी इन जुल्मों को रोका जा सकता है।

लड़कियों का आत्मनिर्भर होना जरूरी

महजबी एक सामाजिक संस्था के साथ मिलकर लड़कियों को आत्मनिर्भर बना रही है। सिलाई, कढ़ाई सिखाकर उनको कामयाब बना रही है। गांव-गांव जाकर महजबी ने सेंटर स्थापित किए। 125 से अधिक सेंटरों पर सिलाई, कढ़ाई सिखाई जा रही है। महजबी का मानना है कि लड़कियां जब आत्मनिर्भर होंगी, तभी लड़ाई के लिए तैयार रहेंगी। इसके लिए सरकार भी मदद कर रही है। लड़कियों को जागरूक किया जा रहा है, ताकि वे आत्मनिर्भर बनें।

उलमा दहेज लोभियों का निकाह न पढ़ें

दहेज लेना और देना हर मजहब में मना है, फिर भी दहेज अभिशाप बन रहा है। धार्मिक गुरुओं को आगे आना होगा। उलमा निकाह न पढ़ाई और संत फेरों के वक्त शादी कराने से इंकार कर दे, तभी दहेज की रोकथाम होंगी। महजबी ने बताया कि बिना दहेज के वे सैकड़ों से अधिक शादियां करा चुकी है। एक साथ 70 कराने पर एसडीएम ओर से सम्मानित भी किया जा चुका है, हालांकि अब सरकार बिना दहेज के शादी करा रही है।

  • Amatya IASSliderF
  • Ashu Sharma Slider
  • eradio india slider
  • pt Amit Shandilya
  • shatawashyak arogyashala
  • sanjay Agrawal Slider
  • Advt pagination scaled
amazone advt

पूरे देश में करें विज्ञापन सिर्फ 5 हजार में एक माह के लिये-

अगर आपके व्यवसाय, कम्पनी या #प्रोडक्ट की ब्राडिंग व #प्रमोशन अनुभवी टीम की देखरेख में #वीडियो, आर्टिकल व शानदार ग्राफिक्स द्वारा किया जाये तो आपको अपने लिये ग्राहक मिलेगें साथ ही आपके ब्रांड की लोगों के बीच में चर्चा होनी शुरू हो जायेगी।
साथियों, वीडियो और #आर्टिकल के माध्यम से अपने व्यापार को Eradio India के विज्ञापन पैकेज के साथ बढ़ायें। हम आपके लिये 24X7 काम करने को तैयार हैं। सोशल मीडिया को हैंडल करना हो या फिर आपके प्रोडक्ट को कस्टमर तक पहुंचाना, यह सब काम हमारी #एक्सपर्ट_टीम आपके लिये करेगी।

इस पैकेज में आपको इन सुविधाओं का लाभ मिलेगा-

  • आपकी ब्रांड के प्रचार के लिए 2 वीडियो डॉक्यूमेंट्री।
  • 2 सोशल मीडिया एकाउंट बनाना व मेंटेन करना।
  • 8 ग्राफिक्स डिज़ाइन की शुभकामना व अन्य संदेश का विज्ञापन।
  • फेसबुक विज्ञापन और Google विज्ञापन, प्रबंधन।
  • नियमित प्रोफ़ाइल को मेंटेन करना।
  • नि:शुल्क ब्रांड लोगो डिजाइन (यदि आवश्यक होगा तो)।
  • परफेक्ट हैशटैग के साथ कंटेंट लिखना और प्रभावशाली पोस्टिंग।
  • कमेंट‍्स व लाइक्स काे मैंनेज करना।
  • www.eradioindia.com पर पब्लिश की जाने वाली न्यूज में आपका विज्ञापन नि:शुल्क दिया जायेगा।
  • अभी ह्वाट‍्सअप करें: 09458002343
  • ईमेल करें: eradioindia@gmail.com

1 COMMENT

Comments are closed.