सुबह उठकर अगर दिख जाये ये चीजें, तो आपका दिन होगा फुल मस्ती में

35
सुबह उठकर अगर दिख जाये ये चीजें, तो आपका दिन होगा फुल मस्ती में
सुबह उठकर अगर दिख जाये ये चीजें, तो आपका दिन होगा फुल मस्ती में

सुबह उठना वैसे तो अपने आप में बड़ा सुखदाई होता है लेकिन सुबह उठने के बाद आपके जीवन में उस चीज का प्रभाव सबसे ज्यादा पड़ता है जिसे आप सबसे पहले देखते हैं। तो यहां आपको वह चीजें बताई जा रही हैं कि सुबह उठकर अगर आप इनके दर्शन करें तो आपका दिन बहुत अच्छा बीतेगा और आपको लाभ होंगे-

  • घर से निकलते समय अगर सुबह-सुबह आपको गाय दिख जाए या कोई गाय का दूध निकाल रहा हो तो यह शुभ माना जाता है। गाय के बछड़े को दूध पीते हुए देखना भी शुभ माना गया है।
  • सुबह के समय अगर आरती होती द‍िखे तो इसे बहुत ही शुभ माना गया है। आरती मन के सभी विकारों को दूर करती है।
  • सुबह-सुबह पक्षियों का दिखना एवं उनकी चहचहाट को सुनना भी शुभ होता है। इसके साथ ही सुबह के समय यदि आप को सफेद फूल, हाथी या अपना कोई मित्र दिख जाए तो उसे भी शुभ माना जाता है।
  • सुबह उठ कर दोनो हाथों की हथेलियों को देखना शुभ माना जाता है। कहा जाता है हाथों में ब्रह्मा, देवी लक्ष्मी और देवी सरस्वती का वास होता है। इसलिए सुबह-सुबह इन्हें देखना शुभ माना जाता है।
  • सुबह के समय यदि आप को हवन होता दिखे या आग दिखे विशेष रूप से यदि वह अग्नि हवन कुंड की हो तो यह बेहद शुभ संकेत होता है। अग्नि आपके जीवन की सभी बुराईयों को जला कर आपके जीवन को शुभ बनाती है।
  • पुराणो मे सुहागिन स्त्रियों को देवी का रूप माना गया है। सुबह सुहागन स्त्री का दिखना भी शुभ होता है। ऐसा कहा गया है कि यह स्त्री घर की ना होकर बाहर की होनी चाहिए। अगर रास्ते में जाते हुए सुहागन स्त्री दिखे तो यह बहुत ही शुभ संकेत होता है।
  • मंदिर की घंटी सुनाई देना भी शुभ संकेत माना गया है। आप सुबह के समय घर से किसी महत्वपूर्ण कार्य के लिए निकले हैं और रास्‍ते में आपको मंदिर के दर्शन हो जाएं तो यह शुभ होता है।
  • सुबह सवेरे गोबर, सोना, तांबा, देखना भी शुभ माना गया है। यह वस्तुएं आपको प्रकृति से जोड़े रखती हैं और आपका दिन शुभ बनाती हैं।
  • सुबह के समय सूर्योदय यानी उगते हुए सूर्य के दर्शन करना शुभ माना जाता है। इससे शरीर मे स्‍फूर्ति का संचार होता है। सुबह के समय हरी घास देखना भी शुभ होता है।
  • अगर सुबह के समय किसी नदी के दर्शन हो जायें तो यह शुभ माना जाता है। नदी का अर्थ प्रगतिशील होता है। नदी के बहाव की तरह ही जीवन का बहाव होता है। जीवन को नदी की तरह है सहनशील और धेर्यवान होनर चाहिए।