इमाम को कंबल और साल देकर किया सम्मानित

सुलतानपुर। संस्था शहीद वीर अब्दुल हमीद द्वारा अजमत-ए-सिद्दीक अकबर व सुल्तान उल हिंद कॉन्फ्रेंस का आयोजन हुआ। आपको बताते चलें प्रत्येक वर्ष की तरह इस वर्ष भी शहीद वीर अब्दुल हमीद संस्था के द्वारा नगर के एक निजी मैरिज हाल में कोरोना महामारी और आचार संहिता का का पालन करते हुए सीमित लोगों के साथ बड़ी ही सादगी से सिद्दीक अकबर वा सुल्तान उल हिंद कॉन्फ्रेंस का एक सफल आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में ’वरिष्ठ समाजसेवी वा महान दानवीर जनाब मोहम्मद आजाद इब्ने मोहम्मद इसहाक’ साहब की जानिब से 30 (आई माय मसाजिद) के इमाम को बतौर तोहफा कंबल व शाल देकर उनकी हौसला अफजाई की गई। साथ ही साथ जिले के कुछ चिन्हित मस्जिद के पेश इमाम को भी उपहार स्वरूप कंबल व शाल देकर उनका सम्मान किया गया।कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रुप में आए पूर्व नायब तहसीलदार अब्दुल हई, संस्था के प्रवक्ता मुफ्ती अकील अहमद मिस्बाही वा प्रमुख धार्मिक प्रवक्ताओं में हजरत मौलाना मंजूर अहमद शेखुल हदीस जामिया अरबिया, मौलाना अहमद वारसी, मौलाना तारिक, मौलाना दिलशाद, मौलाना रमजान, मौलाना इमरान, के द्वारा सिद्दीके अकबर व सुल्तान उल हिंद ख्वाजा गरीब नवाज की शान और उनके दौरे खिलाफत पर अपना इजहार ए खयालात पेश किया। कार्यक्रम की सदारत कर रहे काजी शहर मौलाना अब्दुल लतीफ साहब ने ख्वाजा गरीब नवाज के जीवन पर संक्षिप्त रूप से अपना विचार व्यक्त करते हुए कहा कि सिद्दीक ए अकबर के दौरे खिलाफत को याद करके उस पर अमल करनी चाहिए जिससे पूरी दुनिया में इंसाफ कायम और दायम रहे। कार्यक्रम के अंत में संस्था शहीद वीर अब्दुल हमीद एसोसिएशन के संस्थापक व अध्यक्ष मकबूल अहमद नूरी ने आए हुए सभी लोगो का शुक्रिया अदा किया और साथ ही साथ मुल्क की अमन और शांति के लिए दुआ करते हुए इस कार्यक्रम का समापन किया गया। इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से सहयोग करने वाले वरिष्ठ समाजसेवी मोहम्मद आजाद, सिराज अहमद भोला, नौशाद अहमद उर्फ सबलू भाई, कलीमुद्दीन, मेहताब, रिजवान अहमद पांचो पीरन, मानिकचंद, मेहंदी हसन सुजीत कुमार, जावेद अंसारी, मुस्तकीम खान, गुलाम दस्तगीर, शाह मोहम्मद आदि की उपस्थिति सराहनीय रही।

Advertisement