COVID-19 Vaccine के एक खुराक से चूहों की इम्यूनिटी में हुआ इजाफा: शोध

1
87
COVID-19 Vaccine के एक खुराक से चूहों की इम्यूनिटी में हुआ इजाफा: शोध
COVID-19 Vaccine के एक खुराक से चूहों की इम्यूनिटी में हुआ इजाफा: शोध
  • संवाददाता || ई-रेडियो इंडिया

COVID-19 Vaccine: वैज्ञानिकों ने एक शोध में पाया है कि कोविड-19 का एक खुराक देने से चूहों की इम्यूनिटी  में जाता हुआ है। एसीएस सेंट्रल साइंस जर्नल में वर्णित वैक्सीन में अल्ट्रासोनॉल नैनोपार्टिकल्स होते हैं जो कोरोनवायरस के स्पाइक प्रोटीन से युक्त होते हैं जो इसे कोशिकाओं में प्रवेश करने में सक्षम बनाता है।

स्टैनफोर्ड के अध्ययन के सह-लेखक पीटर किम ने कहा, “हमारा लक्ष्य single shot वैक्सीन बनाना है, जिसमें भंडारण या परिवहन के लिए कोल्ड-चेन की आवश्यकता न पड़े। अगर हम इसे अच्छी तरह से करने में सफल होते हैं, तो यह कीमत में भी सस्ता पड़ेगा।”

शोधकर्ताओं के अनुसार, वायरल-आधारित टीके जो प्रतिरक्षा प्रोटीन देने के लिए वायरस का उपयोग करते हैं, अक्सर उन लोगों की तुलना में अधिक प्रभावी होते हैं जिनमें वायरस के केवल पृथक प्रोटीन भाग होते हैं।

उन्होंने कहा कि नैनोकणों वाले टीके प्रोटीन टीकों की सुरक्षा और आसानी से उत्पादन के साथ वायरल-आधारित टीकों की प्रभावशीलता को संतुलित करते हैं।

वैक्सीन को विकसित करने के लिए, वैज्ञानिकों ने कोरोनोवायरस के स्पाइक प्रोटीन के तल के पास पहले एक खंड को हटा दिया, और इसे फेरिटिन के नैनोकणों के साथ जोड़ दिया – जिसे पहले मनुष्यों में परीक्षण किया गया है।

चूहों में निम्नलिखित परीक्षणों में, शोधकर्ताओं ने उनके छोटे स्पाइक नैनोपार्टिकल्स की तुलना चार अन्य संभावित भिन्नताओं से की- नैनोकणों के बिना पूर्ण स्पाइक्स, पूर्ण स्पाइक्स या आंशिक स्पाइक्स वाले नैनोकणों, और स्पाइक के सिर्फ खंड वाले एक टीके जो संक्रमण के दौरान कोशिकाओं को बांधता है।

एक एकल खुराक के बाद, अध्ययन में पाया गया कि दो नैनोपार्टिकल वैक्सीन उम्मीदवारों दोनों ने कम से कम दो बार एंटीबॉडी स्तर को बेअसर करने का नतीजा उन लोगों में देखा जो सीओवीआईडी ​​-19 है।

वैज्ञानिकों के अनुसार, छोटा स्पाइक नैनोपार्टिकल वैक्सीन बाध्यकारी स्पाइक या पूर्ण स्पाइक वैक्सीन की तुलना में काफी अधिक तटस्थ प्रतिक्रिया उत्पन्न करता है।

दूसरी खुराक के बाद, उन्होंने कहा कि जिन चूहों को छोटा स्पाइक नैनोपार्टिकल वैक्सीन मिला था, उनमें एंटीबॉडी को बेअसर करने के उच्चतम स्तर थे। परिणामों के आधार पर, स्टैनफोर्ड के वैज्ञानिकों ने कहा कि उनके नैनोकणों का टीका सिर्फ एक खुराक के बाद COVID-19 प्रतिरक्षा का उत्पादन कर सकता है। वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि टीके को कमरे के तापमान पर भी संग्रहीत किया जा सकता है और यह आकलन कर रहा है कि क्या इसे फ्रीज-सूखे पाउडर के रूप में भेजा और संग्रहीत किया जा सकता है।

डिजिटल दुनिया में अपनी उपस्थिति करें और भी मजबूत-

अगर आपके व्यवसाय, कम्पनी या #प्रोडक्ट की ब्राडिंग व #प्रमोशन अनुभवी टीम की देखरेख में #वीडियो, आर्टिकल व शानदार ग्राफिक्स द्वारा किया जाये तो आपको अपने लिये ग्राहक मिलेगें साथ ही आपके ब्रांड की लोगों के बीच में चर्चा होनी शुरू हो जायेगी।
साथियों, वीडियो और #आर्टिकल के माध्यम से अपने व्यापार को Eradio India के विज्ञापन पैकेज के साथ बढ़ायें। हम आपके लिये 24X7 काम करने को तैयार हैं। सोशल मीडिया को हैंडल करना हो या फिर आपके प्रोडक्ट को कस्टमर तक पहुंचाना, यह सब काम हमारी #एक्सपर्ट_टीम आपके लिये करेगी।

इस पैकेज में आपको इन सुविधाओं का लाभ मिलेगा-

  • आपकी ब्रांड के प्रचार के लिए 2 वीडियो डॉक्यूमेंट्री।
  • 2 सोशल मीडिया एकाउंट बनाना व मेंटेन करना।
  • 8 ग्राफिक्स डिज़ाइन की शुभकामना व अन्य संदेश का विज्ञापन।
  • फेसबुक विज्ञापन और Google विज्ञापन, प्रबंधन।
  • नियमित प्रोफ़ाइल को मेंटेन करना।
  • नि:शुल्क ब्रांड लोगो डिजाइन (यदि आवश्यक होगा तो)।
  • परफेक्ट हैशटैग के साथ कंटेंट लिखना और प्रभावशाली पोस्टिंग।
  • कमेंट‍्स व लाइक्स काे मैंनेज करना।
  • www.eradioindia.com पर पब्लिश की जाने वाली न्यूज में आपका विज्ञापन नि:शुल्क दिया जायेगा।
  • अभी ह्वाट‍्सअप करें: 09458002343
  • ईमेल करें: eradioindia@gmail.com

1 COMMENT

Comments are closed.