Ghaziabad: आभूषणों की दुकानों में चोरी करने वाले गिरोह का किया पर्दाफाश

Ghaziabad: आभूषणों की दुकानों में चोरी करने वाले गिरोह का किया पर्दाफाश
Ghaziabad: आभूषणों की दुकानों में चोरी करने वाले गिरोह का किया पर्दाफाश
  • थाना साहिबाबाद और मोदीनगर पुलिस की संयुक्त टीम ने किया खुलासा
  • एक महिला समेत चार शातिर चोर गिरफ़्तार, दो फरार
  • कब्जे से अवैध असलहा, सोने-चांदी के आभूषण, नगदी व चोरी करने के उपकरण सहित एक अल्टो कार बरामद
  • फाईज़ अली सैफी || ई-रेडियो इंडिया

Ghaziabad: एसएसपी कलानिधि नैथानी ने जनपद में लगातार बढ़ रही चोरी की घटनाओं पर विराम लगाने के लिए शातिर अपराधियों के विरुद्ध कड़ा रुख करते हुए अभियान चलाया हुआ हैं। जिसके चलते एसपी सिटी निपुण अग्रवाल एवम् एसपी देहात ईरज राजा समेत आदि अधिकारी गणों ने अपने-अपने सर्किलों में पढ़ने वाले अपने अधीनस्थ समस्त क्षेत्राधिकारियों एवं थाना प्रभारियों समेत अन्य पुलिसकर्मियों को पहले से और ज्यादा अधिक सतर्क रहने के लिए निर्देशित किया हुआ हैं।

इसी कड़ी में एसपी देहात ईरज राजा एवम् एसपी सिटी सेकंड ज्ञानेंद्र कुमार सिंह के निर्देशन में थाना साहिबाबाद प्रभारी निरीक्षक विष्णु कौशिक एवं थाना मोदीनगर प्रभारी निरीक्षक मुनेंद्र सिंह व उनकी संयुक्त टीम ने गाज़ियाबाद क्राइम ब्रांच प्रभारी संजय पांडे समेत बुधवार रात्रि साहिबाबाद के करण गेट गोल चक्कर के पास से आभूषणों की दुकानों में चोरी करने वाले एक महिला अभियुक्ता समेत चार शातिर चोरों को गिरफ़्तार करते हुए इस गिरोह का पर्दाफाश कर दिया हैं।

Advertisement

वहीं, पुलिस को चकमा देकर इनके दो साथी अभियुक्त मौके से फरार हो गए हैं। पुलिस को इनके पास से अवैध असलहा तमंचा, कारतूस, चाकू, सोने-चांदी आदि के आभूषण सिक्के, मंगलसूत्र, अंगूठियां, कटोरीयां, गिलास, थाली, बिछाने, पाजेब, लक्ष्मी मूर्तियां, दो लाख दस हज़ार नगदी व चोरी करने के उपकरण गैस कटर आदि सामान बैग सहित एक अल्टो भी कार बरामद हुई हैं।

वहीं, पुलिस को पकड़े गए शातिर अभियुक्तों की पहचान इंतजार पुत्र शौकीन निवासी थाना टीला मोड़, दूसरे की जाहिद पुत्र याकूब निवासी थाना सिंघावली बागपत, तीसरे की समीर पुत्र मेहरबान निवासी थाना लिसाड़ी गेट मेरठ के रूप में हुई हैं, इनमें चौथी एक महिला अभियुक्ता हैं।

पुलिस की पूछताछ में पकड़े गए शातिर अभियुक्तों ने बताया कि वह दिन में सर्राफा बाजार में घूमा करते हैं और आभूषणों की दुकानों पर नज़र रखते हैं। शातिर अभियुक्तों ने बताया कि रात्रि होते ही वह अपनी कार में सवार होकर निकल पड़ते हैं और जैसे ही उन्हें मौका मिलता हैं, तो वह कार में रखे गैस कटर से आभूषणों की दुकानों का शटर काट दिया करते हैं तथा दुकानों में रक्खे सोना-चांदी आदि के आभूषण चोरी कर लिया करते हैं।

पूछताछ में शातिर अभियुक्तों ने यह भी बताया कि उन्होंने गत् 9 फरवरी की रात्रि में साहिबाबाद शालीमार गार्डन स्थित एक आभूषण की दुकान का शटर कटर से काटकर उसमें चोरी की थी। पुलिस को शातिर अभियुक्तों ने जानकारी देते हुए यह भी बताया कि उन्होंने अपने फरार हुए दोनों साथियों समेत 26 फरवरी की रात्रि में मोदीनगर गुरुद्वारा रोड स्थित एक और दुकान में चोरी की थी। शातिर अभियुक्तों ने बताया कि मोदीनगर से चोरी किए गए आभूषणों को इन्होंने सिल्ली का रूप दें दिया था। जिन्हें, फरार हुए इनके साथियों ने दिल्ली में कहीं बेच दिया हैं।

बता दें कि पुलिस को बरामद नगदी के बारे में पूछने पर अभियुक्त गणों ने बताया कि (तीस हज़ार) उन्होंने मोदीनगर स्थित दुकान में से चोरी किए थे और (एक लाख अस्सी हज़ार) रुपए की नगदी उन्होंने चांदी की दो सिल्लियां दिल्ली में बेचकर हासिल की थी। जिस नगदी को अभियुक्त गणों ने अभी तक आपस में बाटी नहीं थी। दरअसल, अभियुक्त गणों द्वारा कारित की गई घटनाओं को मद्देनज़र रखते थाना साहिबाबाद थाना मोदीनगर और थाना सरधना मेरठ में अभियोग पंजीकृत हैं।

पुलिस लाइन गाज़ियाबाद में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में एसपी देहात ईरज राजा ने जानकारी देते हुए बताया कि अभियुक्त गणों ने हाल ही में थाना साहिबाबाद और मोदीनगर क्षेत्र में चोरी की दो घटनाओं को अंजाम दिया था, जिनका तरीका एक ही था। उन्होंने बताया कि आस-पास में लगे सीसीटीवी कैमरे खंगालने पर दोनों घटनाओं में एक ही अल्टो कार इस्तेमाल की गई थी। जिस गिरोह को दोनों थानों की पुलिस ने चिन्हित किया था।

एसपी ग्रामीण ने बताया कि इस गिरोह ने सरधना और यमुनानगर में भी स्थित आभूषणों की दुकान में चोरी का प्रयास किया था। इनके अपराधिक इतिहास के बारे में जानकारी करने पर इनके विरुद्ध तेलंगाना, आंध्र-प्रदेश में भी काफ़ी मुकदमें दर्ज हैं और यह पूर्व में मुंबई से भी जेल जा चुके हैं तथा वर्तमान में अभियुक्त गण बेंगलुरु से चोरी के मुकदमों में वांछित चल रहे हैं। इतना ही नहीं, इन्होंने राजस्थान व इसके आस-पास के इलाकों में भी कई चोरियां की हैं, जिसका इन्होंने इकबाल किया हैं।

एसपी ग्रामीण ने यह भी बताया कि इस गिरोह का मास्टरमाइंड तनवीर और उसकी पत्नी हैं, जोकि मेरठ निवासी हैं। महिला अभियुक्ता द्वारा ही आभूषणों को बेचा जाता था और यह फ्लाइट और हाई-स्पीड ट्रेनों का भी इस्तेमाल किया करते थे। पुलिस मुख्य अभियुक्त तनवीर की तलाश कर रही हैं।