एंबुलेंस स्टाफ की मदद से महिला ने बच्चे को रास्ते मैं ही दिया जन्म- प्रसव के बाद जच्चा-बच्चा दोनों सुरक्षित

सरधना (मेरठ)। एंबुलेंस स्टाफ की सजगता से महिला ने अस्पताल पहुंचने से पहले ही एंबुलेंस में बेटे को जन्म दिया। प्रसव के बाद जच्चा-बच्चा दोनों सुरक्षित हैं। जानी खुर्द ब्लाॅक के ढडरा गांव निवासी नौशाबा पत्नी सरताज को शनिवार की रात प्रसव पीड़ा हुई तो उन्होंने 8 बज कर 42 मिनट पर 108 एंबुलेंस को कॉल की महज 10 मिनट बाद ही रोहटा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से 108 का चालक उदयवीर सिंह एंबुलेंस लेकर नौशाबा के घर पहुंच चुका था।

बारिश और मौसम खराब होने के बावजूद एंबुलेंस चालक प्रसव पीड़ा से कराह रही नौशाबा को लेकर अस्पताल के लिए चल दिया। लेकिन गर्भवती को प्रसव पीड़ा बढ़ने के कारण आप मल्लाहपुर गांव के पास आशा  बॉबी के सहयोग से ईएमटी गुल हसन ने सकुशल प्रसव पीड़ा कराई। एंबुलेंस में प्रसव पीड़ा के बाद नौशाबा ने एक तंदरुस्त बेटे को जन्म दिया। एंबुलेंस में प्रसव पीड़ा सकुशल कराने के बाद एंबुलेंस के चालक उदयवीर सिंह व ईएमटी गुलशन तथा आशा बॉबी जच्चा बच्चा दोनों की जांच करने के बाद सुरक्षित पाया।

Advertisement

जिसके बाद उन्हें वापस घर ले जाकर शिफ्ट करा दिया। इस तरह से एंबुलेंस स्टाफ की सूझबूझ और तत्परता से प्रसव पीड़ा से करा रही महिला को चिकित्सा सुविधा प्रदान कराते हुए सकुशल प्रसव पीड़ा कराने पर ईएमटी गुल हसन व आशा बॉबी तथा चालक उदयवीर सिंह को 108 के जिला प्रभारी कुलदीप सिंह ने उनका हौसला बढ़ाते हुए शाबाशी देते हुए बधाई दी है ।