गाजियाबाद: पिता-पुत्री की हत्या का मात्र 3 घंटों में किया खुलासा, भांजा ही निकला कातिल

0
29

अवैध संबंधों के चलते की गई थी पिता और उसकी पुत्री की निर्मम हत्या

  • फाईज़ अली सैफी, ई-रेडियो इंडिया

गाज़ियाबाद। साहिबाबाद थानाक्षेत्र के शहीदनगर इलाके में हुई पिता और पुत्री की निर्मम हत्या का पुलिस ने मात्र तीन घंटों के भीतर खुलासा करते हुए हत्यारोपी को गिरफ़्तार कर लिया हैं। पुलिस ने इसके पास से आला कत्ल और खून से सने कपड़े भी बरामद कर लिए हैं।

आपको बताते चलें कि शुक्रवार साहिबाबाद थानाक्षेत्र के शहीदनगर इलाके में एक किराए के मकान में पिता अब्दुल्लाह और उसकी दस वर्षीय पुत्री का शव पड़ा मिलने से इलाके में सनसनी फैल गई थी। जिसकी सूचना मृतक अब्दुल्लाह के पिता अब्दुल ने पुलिस से करते हुए अपने रिश्तेदार शरीफ पुत्र सगीर निवासी थाना साहिबाबाद को नामजद किया था, जोकि मृतक अब्दुल्लाह का भांजा हैं।

गौरतलब है कि पिता और पुत्री की हत्या की सूचना मिलते ही थाना साहिबाबाद पुलिस मय पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गई थी। इतना ही नहीं, वरिष्ठ अधिकारीगण भी फील्ड यूनिट समेत मौके पर पहुंच गए थे। जिसके उपरांत साक्ष संगलन की कार्रवाई आरंभ की गई थी।

दरअसल, मृतक के पिता अब्दुल ने अपनी तहरीर में पुलिस को बताया कि उसका बेटा अब्दुल्लाह और उसकी पोती हाफजा की हत्या के पीछे उसका रिश्तेदार शफीर हैं और बताया कि अब्दुल्लाह की पत्नी से शफीर बात-चीत किया करता था और दोनों में आपस में अवैध संबंध भी थे। जिसके उपरांत एसएसपी और एसपी सिटी द्वारा सहायक पुलिस अधीक्षकों समेत चार टीमों का गठन किया गया था। जिसमें, थाना कोतवाली, कौशांबी, साहिबाबाद और कविनगर समेत साइबर सेल की टीमें भी शामिल थी।

आपको बता दें कि पुलिस ने घटनास्थल से जुटाए गए साक्ष्य, सुरागरस्सी, पतारस्सी और अब्दुल्ला व शरीफ के मोबाइल फोन के इलेक्ट्रॉनिक डाटा का गहनता से परीक्षण किया तो पुलिस ने शफीर को तत्काल हिरासत में ले लिया। पूछताछ करने पर शफीर ने बताया कि मृतक अब्दुल्लाह की पत्नी से वह लगातार संपर्क में रहता था। इतना ही नहीं, अभियुक्त ने बताया कि उसके मृतक की पत्नी से अवैध संबंध भी थे और वह उससे कई-कई घंटे बातें किया करता था। अभियुक्त ने जानकारी देते हुए यह भी बताया कि लॉकडाउन के दौरान मृतक की पत्नी बुलंदशहर अपने मायके में रह रही थी और वह लगातार उसके संपर्क में थी।

पूछताछ में अभियुक्त शफीर ने बताया कि मृतक अब्दुल्लाह उसका मामा लगता था और मृतक की पत्नी से अभियुक्त शफीर बहुत पहले से संपर्क में था। उसका यह संपर्क मृतक के मामा अब्दुल्लाह को पसंद नहीं था और उसने उसका नंबर ब्लैक लिस्ट में भी डाला हुआ था। इतना ही नहीं, मृतक ने अपनी पत्नी से अपने भांजे शरीफ से बात-चीत करने के लिए मना भी किया हुआ था। इसी को मद्देनज़र रखते हुए मृतक अब्दुल्ला ने अपनी पत्नी को मायके में भेजा हुआ था और यह बात अभियुक्त शफीर को नागवार गुजर रही थी।

बता दें कि अभियुक्त शफीर के अवैध संबंधों के बीच में उसका मामा अब्दुल्लाह अड़चन बन रहा था। जिसे रास्ते से हटाने के लिए अभियुक्त ने थान ली थी और मौका देखते ही रात्रि में अभियुक्त घर की दीवार फांदकर ऊपर चल गया था। इतना ही नहीं, अभियुक्त ने घर के अंदर जाकर छुरी से अपने मामा पर जानलेवा हमला कर दिया था, हमले में हुई आवाज़ से मृतक अब्दुल्लाह की बेटी जाग गई थी। जिसे शांत कराने के लिए अभियुक्त ने उस पर भी जानलेवा हमला कर दिया था। जिसमें पिता और पुत्री की मौत हो गई और फिर समय करीब तीन बजे अभियुक्त छत से कूदकर फरार भी हो गया था।

एसएसपी कलानिधि नैथानी ने जानकारी देते हुए बताया कि दोनों पिता और पुत्री की यह हत्या पुलिस के लिए चुनौतीपूर्ण थी। जिसका जल्द से जल्द खुलासा करने के लिए विभिन्न टीमों का गठन किया गया था। जिसका अनुपालन करते हुए गिरफ़्तार करने वाली टीम के थाना साहिबाबाद प्रभारी निरीक्षक अनिल कुमार शाही, उपनिरीक्षक अरुण मिश्रा, आरक्षी रविंद्र यादव, ऋषि पाल भाटी और आरक्षी आशीष मावी द्वारा हत्यारोपी को तत्काल रूप से गिरफ़्तार कर लिया गया। वहीं, एसएसपी कलानिधि नैथानी द्वारा शातिर अभियुक्त को गिरफ़्तार करने वाली टीम को 25 हज़ार रुपए का इनाम देने की घोषणा की गई हैं। पुलिस ने पकड़े गए हत्यारोपी के विरुद्ध कानूनी कार्रवाई करके इसको जेल भेज दिया हैं।

Send Your News to +919458002343 email to eradioindia@gmail.com for news publication to eradioindia.com