History of 7 March in Hindi || February 7 March in History

187

History of 7 March in Hindi || February 7 March in History: इस कॉलम में आपको रोजाना इतिहास के महत्वपूर्ण पलों को जानने का मौका मिलेगा। अगर आपको यहां बताई गई जानकारी पसंद आये तो अपने दोस्तों व परिवार में शेयर करें-

7 मार्च की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ 

2001 – फिजी में अंतरिम सरकार का इस्तीफ़ा।

2002 – इस्लामाबाद में दक्षेस सूचना मंत्रियों का सम्मेलन शुरू, सम्मेलन के दौरान पाकिस्तानी राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ़ ने पुन: द्विपक्षीय मुद्दे उठाये। 

2003 – राष्ट्रपति फिदेल कास्त्रो को क्यूबा की संसद ने छठे कार्यकाल के लिए राष्ट्रपति निर्वाचित किया, वे दुनिया के सबसे लम्बे समय तक शासन करने वाले शासनाध्यक्ष हैं। 

2006 – ईरान के राष्ट्रपति ने देश की परमाणु गतिविधियों पर रोक के लिए संयुक्त राष्ट्र परमाणु एजेंसी से क्षतिपूर्ति की मांग की। 

2007 – भारत और पाकिस्तान आतंकवाद पर जांच में मदद के लिए तैयार। 

2008 – त्रिपुरा विधान सभा चुनाव में सत्तारूढ़ लेफ़्ट फ़्रंट ने लगातार चौथी बार जीत दर्ज की। अंतरिक्ष यात्रियों ने मंगल ग्रह पर झील की खोज की। 

2009 – प्रमुख धातु कम्पनी स्टरलाइट इंडस्ट्रीज ने अमेरिका की तीसरी सबसे बड़ी कॉपर उत्पादक कम्पनी एसार्को के अधिग्रहण की घोषणा की।

7 मार्च को जन्मे व्यक्ति 

1955 – अनुपम खेर, भारतीय अभिनेता। 

1949 – ग़ुलाम नबी आज़ाद – भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के प्रसिद्ध और वरिष्ठ राजनीतिज्ञ हैं। 

1934 – नरी कॉन्ट्रैक्टर – भारत के प्रसिद्ध पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी थे। 

1911 – अज्ञेय, सच्चिदानंद हीरानन्द वात्स्यायन, हिन्दी के सुप्रसिद्ध साहित्यकार 

7 मार्च को हुए निधन

2012 – रवि (संगीतकार) – हिन्दी फ़िल्मों में प्रसिद्ध संगीतकार थे। 

1952 – परमहंस योगानन्द जी, भारतीय गुरु। 

1961 – गोविंद बल्लभ पंत, उत्तर प्रदेश के प्रथम मुख्यमंत्री एवं स्वतंत्रता सेनानी। 

1939 – दयाराम साहनी – भारत के प्रसिद्ध पुरातत्त्ववेत्ता थे।

7 मार्च का दिन अंतरिक्ष के इतिहास में बेहद अहम है। दरअसल इसी दिन दुनिया के सबसे ताकतवर दूरबीन केप्लर को अंतरिक्ष में लॉन्च किया गया था। केप्लर दूरबीन सूरज की परिक्रमा करता था और हमारे सौरमंडल के अलावा तारों की टोह लेता था। केप्लर दूरबीन की मदद से हजारों नए एक्सोप्लैनेट की खोज की गई।

एक्सोप्लेनेट उस ग्रह को कहते हैं जो हमारे सौरमंडल में न होकर किसी और तारामंडल में पाए जाते हैं। ऐसे भी ग्रहों का पता चला जहां हमारी धरती के मुकाबले कई गुना ज्यादा पानी है।

1 COMMENT

Comments are closed.