रेलवे में नौकरी लगवाने के बहाने ठगी करने वाला शातिर ठग गिरफ़्तार

ghz123

कब्जे से एक रेलवे का फर्जी आईकार्ड और दो रेलवे की मोहरे भी बरामद

  • फाईज़ अली सैफी, ई-रेडियो इंडिया

गाज़ियाबाद। एसएसपी कलानिधि नैथानी द्वारा शातिर अपराधियों के विरूद्ध चलाए जा रहे अभियान के अंतर्गत थाना मसूरी पुलिस को उस समय महत्वपूर्ण सफलता प्राप्त हुई, जब पुलिस ने रेलवे में नौकरी लगवाने के बहाने ठगी करने वाले एक शातिर ठग को गिरफ़्तार किया। पुलिस को इसके पास से एक रेलवे का फर्जी आईकार्ड और दो रेलवे की मोहरे भी बरामद हुई।

आपको बता दें कि थाना मसूरी पुलिस के उपनिरीक्षक दीपक कुमार, वरिष्ठ सिपाही सतेंद्र कुमार, सिपाही गजेंद्र कुमार ने रेलवे में नौकरी लगवाने के बहाने ठगी करने वाले एक शातिर ठग को शनिवार सुबह पुराना डासना पुल के टोल टैक्स के पास से उस समय गिरफ़्तार कर लिया, जब वह थानाक्षेत्र में सक्रिय था।

पुलिस को पकड़े गए शातिर ठग ने अपना नाम राजकुमार शर्मा पुत्र सत्येंद्र कुमार शर्मा निवासी फरीदाबाद हरियाणा बताया हैं। पुलिस को इसके पास से एक रेलवे का फर्जी आईकार्ड और रेलवे विभाग की दो मोहरे भी बरामद हुई हैं। दरअसल, शातिर अभियुक्त खुद को रेल मंत्री दिल्ली में असिस्टेंट विजिलेंस ऑफिस का होने का परिचय दिया करता था। जिसके लिए शातिर अभियुक्त रेलवे का फर्जी परिचय पत्र भी वह अपने पास रखा करता था। इतना ही नहीं, शातिर ठग अपने फर्जी दस्तावेजों के आधार पर लोगों को रेलवे में नौकरी लगवाने का झांसा देकर लाखों रुपए की ठगी कर लिया करता था।

गौरतलब है कि शातिर ठग का यह मामला उस वक्त सामने आया जब संतराम यादव पुत्र स्वर्गीय संयोदान सिंह निवासी थाना मसूरी ने पुलिस को जानकारी देते हुए बताया कि उसके पुत्र सरदारा की रेलवे में टीटी के पद पर नौकरी लगवाने को लेकर वह उससे ढाई लाख रुपए ठग चुका हैं और बाद में अब वह केवल झांसा ही दे रहा था।

थाना मसूरी प्रभारी निरीक्षक उमेश पवार ने जानकारी देते हुए बताया कि शातिर ठग द्वारा फरीदाबाद, हापुड़ व अन्य जनपदों में भी ठगी किए जाने का भी मामला प्रकाश में आ रहा हैं, जिसकी पुलिस जांच कर रही हैं। पुलिस ने इसके विरुद्ध कानूनी कार्रवाई करके इसको जेल भेज दिया हैं।

Advertisement

Send Your News to +919458002343 email to [email protected] for news publication to eradioindia.com