क्या संपूर्ण लॉकडाउन लगाएगी मोदी सरकार?

प्रधानमंत्री को समीक्षा बैठक के दौरान बताया गया कि देश में इस वक्त करीब 12 राज्य ऐसे हैं जहां पर 1 लाख से ज्यादा एक्टिव केस हैं. इसके साथ ही, पीएम ने उन जिलों के बारे में भी जाना जहां पर सबसे ज्यादा एक्टिव कोरोना संक्रमण के केस हैं.

भारत में कोरोना की दूसरी लहर तबाही मचा रही है, ऐसे में क्या भारत सरकार संपूर्ण लॉकडाउन लगाने को लेकर विचार कर रही है? केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा ऐसी किसी भी संभावना से इनकार नहीं किया गया है. नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि नेशनल लॉकडाउन के ऑप्शन पर भी चर्चा चल रही है. 

Advertisement

कोरोना की ताजा लहर से भारत का हाल बेहाल

बतादे कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश में कोविड-19 की स्थिति पर गुरुवार को व्यापक समीक्षा बैठक की. इस दौरान उनके साथ रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह, केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन, पीयूष गोयल समेत अन्य मंत्री और शीर्ष अधिकारी मौजूद थे. बैठक के दौरान देश के विभिन्न राज्यों और जिलों में कोरोना से बिगड़े हालत की तस्वीर पीएम मोदी के सामने पेश की गई.

बैठक के दौरान प्रधानमंत्री को यह बताया गया कि कैसे राज्यों की तरफ से हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर को तेजी से बढ़ाने पर काम किया जा रहा है. पीएम मोदी ने निर्देश दिए कि राज्यों को हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर को बढ़ाने के लिए मदद और उन्हें सुझाव दिया जाए.

संपूर्ण लॉकडाउन की लगातार उठ रही है मांग

आपको बता दें कि भारत में जब से कोरोना की दूसरी लहर ने अपना असर दिखाना शुरू किया है, ऐसे में बीते कुछ दिनों से राजनीतिक हल्कों के साथ-साथ एक्सपर्ट्स की ओर से भी नेशनल लॉकडाउन को लेकर आवाज़ आनी शुरू हुई है. कांग्रेस सांसद राहुल गांधी भी संपूर्ण लॉकडाउन की मांग कर चुके हैं.
अमेरिका के टॉप हेल्थ एक्सपर्ट डॉ. एंटनी फाउची भी कह चुके हैं कि भारत को मौजूदा स्थिति से निपटने के लिए अपनी तमाम ताकत को झोंक देना होगा. अगर लॉकडाउन लग जाता है, तो वह ट्रांसमिशन की रफ्तार को रोकेगा, ऐसे वक्त में सरकार को अपनी पूरी तैयारी करनी चाहिए।