ऑपरेशन-420: नौकरी लगवाने का झांसा देने वाले पांच ठग गिरफ़्तार

277
ऑपरेशन-420: नौकरी लगवाने का झांसा देने वाले पांच ठग गिरफ़्तार
ऑपरेशन-420: नौकरी लगवाने का झांसा देने वाले पांच ठग गिरफ़्तार

कब्जे से नए-पुराने सिम कार्ड, एटीएम कार्ड, चेक बुक, पासबुक, मोबाइल फोन, डायरी, मोहर, लैपटॉप, फर्जी नियुक्ति पत्र व नगदी बरामद

  • फाईज़ अली सैफी || ई-रेडियो इंडिया

गाज़ियाबाद। जनपद में एसएसपी कलानिधि नैथानी ने शातिर अपराधियों के विरुद्ध ऑपरेशन-420 अभियान चलाया हुआ हैं। जिसके चलते एसपी सिटी निपुण अग्रवाल एवं सीओ नगर प्रथम अभय कुमार मिश्रा की संयुक्त टीम ने सोमवार सुबह मुखबिर की सूचना पर चौधरी मोड़ से नौकरी लगवाने का झांसा देकर लोगों से ठगी करने वाले पांच शातिर ठगों को गिरफ़्तार करने में सफलता प्राप्त की हैं। पुलिस को इनके पास से नए-पुराने सिम कार्ड, एटीएम कार्ड, चेक बुक, पासबुक, मोबाइल फोन, डायरी, मोहर, लैपटॉप, फर्जी नियुक्ति पत्र व नगदी भी बरामद हुई हैं।

पुलिस को पकड़े गए शातिर ठगों की पहचान नितेश, दूसरे की मुकेश गिरी पुत्र श्रीमती गिरी निवासी थाना बिसरख नोएडा, तीसरे की चंदन पुत्र सुरेश चंद् निवासी थाना बिधूना औरैया, चौथे की दुर्गेश गिरी पुत्र व्यास गिरी निवासी थाना विजयपुर बिहार और पांचवे की महेंद्र सिंह उर्फ मयंक पुत्र बलराम सिंह निवासी थाना बकेबर इटावा बताया हैं।

पूछताछ में पकड़े गए अभियुक्तों ने बताया कि वह ऑनलाइन जॉब साइट्स जैसे कि जॉब मॉनिटर डॉट कॉम और अवीवा इंश्योरेंस कंपनी आदि से नौकरी व पॉलिसी मैच्योरिटी की जरूरत रखने वाले लोगों का डाटा और उनका वर्किंग प्रोफाइल जानकर उनके नंबर पर फोन कॉल्स किया करते हैं, और फिर उनको बताते हैं कि हमारे पास आपकी प्रोफाइल के अनुसार जॉब है, और हमें आपकी आवश्यकता हैं। जिसके बाद लोग-बाग भरोसे में आ जाते हैं और फिर वह जॉब रजिस्ट्रेशन के नाम पर किसी भी फर्जी अकाउंट में ऑनलाइन पैसे डलवा लिया करते हैं। इतना ही नहीं, अभियुक्त गण लोगों से एटीएम कार्ड से ट्रांजैक्शन कर पैसे भी निकलवा लेते हैं तथा अवैध रूप से ठगी कर लिया करते हैं।

एसपी सिटी प्रथम गाज़ियाबाद निपुण अग्रवाल ने जानकारी देते हुए बताया कि पकड़े गए अभियुक्त गण अब तक हजारों लोगों को नौकरी का झांसा देकर करोड़ों रुपए की ठगी कर चुके हैं। उन्होंने बताया कि ठगी किए गए पैसे को अभियुक्त गण अपने-अपने कार्य के हिसाब से बांट लिया करते थे। इतना ही नहीं, उन्होंने बताया कि अभियुक्त गणों से ऑनलाइन फंड के संबंध में भी महत्वपूर्ण जानकारी ली गई हैं, जिसपर कारवाही प्रचलित की जा रही हैं।

गौरतलब है कि शातिर ठगों का भंडाफोड़ कर गिरफ़्तार करने वाली टीम में थाना कोतवाली प्रभारी निरीक्षक संदीप कुमार व उनकी टीम के उपनिरीक्षक नरेंद्र कुमार (सर्विलांस प्रभारी), उपनिरीक्षक सचिन कुमार, वरिष्ठ सिपाही मोनू कुमार, योगेंद्र कुमार, सिपाही विवेक कुमार, अखिलेश कुमार और सिपाही अनुज धामा भी मौजूद रहे हैं।