Cancer Knowledge in Hindi: 1 क्लिक पर जानें कैंसर के बारे में सबकुछ

295
Cancer Knowledge in Hindi: 1 क्लिक पर जानें कैंसर के बारे में सबकुछ
Cancer Knowledge in Hindi: 1 क्लिक पर जानें कैंसर के बारे में सबकुछ
  • शिवानी मांगवानी || ई-रेडियो इंडिया

Cancer Knowledge in Hindi: इस दौड़ती-भागती जिंदगी में इंसान कब कौन सी बीमारी से घिर जाए, इस पर कुछ नहीं कहा जा सकता। बदलते दौर में एक के बाद एक ऐसी बीमारियां (Cancer Knowledge in Hindi) सामने आ रही हैं जो मानव जाति को काफी डरा रही हैं। इन्हीं बीमारियों में से एक बीमारी है कैंसर। विश्व भर में हर साल 4 फरवरी को विश्व कैंसर दिवस (WORLD CANCER DAY) मनाया जाता है। 

साल 1933 में इस दिन को मनाने की शुरुआत हुई थी और इसके पीछे ये उद्देश्य रहता है कि लोगों को इस बीमारी और इससे बचने के तरीकों को लेकर जागरूक किया जा सके। तो चलिए आपको इस दिन के बारे में कुछ खास बातें बताते हैं। हर बार 4 फरवरी को विश्व कैंसर दिवस (WORLD CANCER DAY) मनाया जाता है इस दिवस को मनाने का उद्देश्य लोगो के बीच जागरुकता फैलाना है ओर इस बीमारी को कम करना है।

क्या है कैंसर? || About Cancer in Hindi

कैंसर एक जानलेवा बीमारी है यह मानव शरीर कई अनगिनत कोशिकाओं यानी सेल्स से बना हुआ है और इन कोशिकाओं में निरंतर ही विभाजन होता रहता है। यह एक सामान्य प्रक्रिया है और इसपर शरीर का पूरा नियंत्रण होता है। लेकिन कभी-कभी जब शरीर के किसी विशेष अंग की कोशिकाओं पर शरीर का नियंत्रण बिगड़ जाता है और कोशिकाएं बेहिसाब तरीके से बढ़ने लगती हैं, उसे कैंसर कहा जाता हैं। 

कैंसर की शुरूआत कैसे होती है? || Starting phase of Cancer

मानव शरीर में जब कोशिकाओं के जीन में परिवर्तन होने लगता है, तब कैंसर (Cancer Knowledge in Hindi) की शुरुआत होती है। ऐसा नहीं है कि किसी विशेष कारण से ही जीन में बदलाव होते हैं, यह स्वंय भी बदल सकते हैं या फिर दूसरे कारणों की वजह से ऐसा हो सकता है, जैसे- गुटका-तंबाकू जैसी नशीली चीजें खाने से, अल्ट्रावॉलेट रे या फिर रेडिएशन आदि इसके लिए जिम्मेदार हो सकते हैं। 

ज्यादातर यह देखा गया है कि कैंसर शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता यानि इम्यून सिस्टम की कोशिकाओं को समाप्त कर देता है, परंतु कभी-कभी कैंसर की कोशिकाएं को इम्यून सिस्टम झेल नहीं पाता और व्यक्ति को कैंसर जैसी लाइलाज बिमारी हो जाती है। 

जैसे-जैसे शरीर में कैंसर वाली कोशिकाएं बढ़ती रहती हैं, वैसे-वैसे ट्यूमर यानि एक प्रकार की गांठ उभरती रहती है। यदि इसका उपचारसही समय पर न किया जाए तो यह पूरे शरीर में फैल जाता है।

Cancer Knowledge in Hindi: जीवनशैली में बदलाव से होगा नियंत्रित

कैंसर के 40 से 50 फीसदी मामलों को जीवनशैली में बदलाव कर रोका जा सकता है। 10 से 20 प्रतिशत कैंसर (Cancer Knowledge in Hindi) की रोकथाम स्वयं का निरीक्षण या अपने स्वास्थ्य पर ध्यान देकर किया जाता है। अगर कैंसर का पता शुरुआती दौर में लग जाए तो इससे मुक्ति पाना संभव है। कैंसर को एक घातक और जटिल रोग माना जाता है। यह एक ऐसी बीमारी है जो शरीर कई के अंगों को प्रभावित करती है। जब शरीर में विषाक्त पदार्थ एक विशेष अंग के पास एकत्र होते हैं तो परिणामस्वरूप शरीर के सारे अंगों में विष फैल जाता है।

Cancer Knowledge in Hindi: जीवनशैली में बदलाव से होगा नियंत्रित
Cancer Knowledge in Hindi: जीवनशैली में बदलाव से होगा नियंत्रित

कैंसर कितने प्रकार का होता है? || Cancer Types in Hindi

डॉक्टर्स और शोधकर्ता मानते हैं कि कैंसर (Cancer Knowledge in Hindi) 200 से भी अधिक तरह का होता है और इसीलिए इनके लक्षण भी विभिन्न होते हैं। लेकिन इस लेख में सिर्फ उन्हीं कैंसर के बारे में बताएंगे जिन्होंने लोगों को बहुत तेजी से अपना शिकार बनाया है। चलिए जानते हैं कि वो कैंसर के कौन से प्रकार हैं –

ब्लड कैंसर || What is blood cancer

लोगों में सबसे तेजी से बढ़ने वाले कैंसर में ब्लड कैंसर सबसे आगे है। इस कैंसर में व्यक्ति के शरीर की रक्त कोशिकाओं में कैंसर पैदा होने लगता हैऔर इसी के चलते शरीर में रक्त की कमी हो जाती है और कैंसर बहुत तेजी से शरीर में संक्रमित होना शुरू हो जाता है।

फेफड़ों का कैंसर || What is lung cancer

फेफड़ों के कैंसर में व्यक्ति की स्थिति बहुत दयनीय और खराब हो जाती है। सांस लेने में परेशानी, बलगम जमने की दिक्कत, हड्डियों-जोड़ों में बेहिसाब दर्द और भूख ना लगना इसके प्रमुख लक्षण हैं। शरीर में भारी कमजोरी का आभास होता है। हर समय बेवजह ही थकान लगी रहती है। फेफड़ों के कैंसर के बढ़ने की वजह धुम्रपान है।

ब्रेन कैंसर || What is brain cancer

Cancer Knowledge in Hindi: ब्रेन कैंसर व्यक्ति के सिर वाले भाग में पनपता है। ब्रेन कैंसर का ही दूसरा नाम ब्रेन ट्यूमर भी है। इस कैंसर वाले रोगी के दिमाग वाले भाग में एक ट्यूमर यानि गांठ बन जाती है और यह गांठ समय के साथ-साथ बड़ी होने लगती है और धीरे-धीरे पूरे मस्तिष्क में फैल जाती है। 

स्तन कैंसर || What is breast cancer

स्तन कैंसर या जिसे ब्रैस्ट कैंसर भी कहते हैं, यह विशेषकर महिलाओं को होता है, परंतु ऐसा नहीं है कि यह पुरुषों को नहीं हो सकता। इस कैंसर से ग्रसित औरतों के स्तन में एक प्रकार की गांठ बननी शुरु हो जाती है, जो धीरे-धीरे समयानुसार बढ़ने लगती है। यदि इससे बचाव करना है तो नियमित रूप से स्तन की जांच करवाते रहें।

चर्म यानि स्किन कैंसर || What is skin cancer

चर्म कैंसर यानि स्किन कैंसर के मामले भी देश में बहुत तेजी से सामने आए हैं। डॉक्टर्स का कहना है कि स्किन कैंसर (Cancer Knowledge in Hindi) बहुत अधिक गर्मी में रहने, उचित भोजन न करने और शून्य शारीरिक गतिविधि न करने से शरीर में पनपता है। स्किन कैंसर हर उम्र के व्यक्ति को हो सकता है। 

कैंसर के लक्षण || Cancer symptoms in hindi

अत्यधिक थकान

शरीर में अत्यधिक थकान का बने रहना, ब्लड प्लेटलेट्स या लाल रक्त कोशिकाओं में गड़बड़ी का कारण हो सकता है, जिससे ल्यूकेमिया का खतरा बना रहता है। ऐसा होने पर अनदेखा न करें।

बेवजह वजन घटना

बगैर किसी कारण अचानक वजन कम होने पर, इसे अनदेखा न करें। यह कोलोन कैंसर की चेतावनी हो सकती है। यही नहीं य ह पाचन तंत्र के कैंसर के लिए भी जिम्मेदार हो सकता है। इसके अलावा बेवजह वजन घटना, लीवर कैंसर के लक्षण भी हो सकते हैं, जो आपकी भूख को प्रभावित करने के साथ ही, शरीर की अपशिष्ट पदार्थों को बाहर निकालने के क्षमता पर भी असर डालता है।

कमजोरी

समान्य कमजोरी और थकान का बना रहना कई प्रकार के कैंसर के लक्षणों में शामिल है। साथ ही बिना कारण थकान महसूस होने पर यदि भरपूर नींद ओर आराम के बाद भी वह ठीक न हो तो इसे अनदेखा बिल्कुल न करें। डॉक्टर को जरूर दिखाएं।

फोड़ा या गांठ

शरीर के किसी भाग में कोई फोड़ा, गांठ या फिर कोई त्वचा के कई सारी परतें, जो एक ही जगह पर इकट्ठा हुई हों, यदि इलाज के बावजूद ठीक नहीं हो पा रही हो, तो इसे गंभीरता से लें। यह त्वचा का कैंसर भी हो सकता है। जो कई तरह का हो सकता है।

कफ और सीने में दर्द

लंबे समय तक कफ का बना रहना और सीने में दर्द होना, ल्यूकेमिया के साथ ही कई प्रकार के कैंसर (Cancer Knowledge in Hindi) का खतरा पैदा करता है।यह लंग ट्यूमर या ब्रांकाईटिस के लक्षण भी हो सकते हैं। लंग कैंसर के कारण सीने में होने वाला दर्द कंधे और बांहों में भी बना रहता है।

भारत में कैंसर की स्थिति || Cancer in India

भारत में कैंसर की स्थिति || Cancer in India

कैंसर भारत में एक प्रमुख सार्वजनिक स्वास्थ्य संबंधी समस्या है। आई.सी.एम.आर. के राष्ट्रीय कैंसर रजिस्ट्री कार्यक्रम के प्राक्कलनों के अनुसार, भारत में किसी भी समय पर कैंसर के लगभग 28 लाख मामले हैं और लगभग 11 लाख नए मामले प्रत्येक वर्ष आते हैं। लगभग 5 लाख रोगी बीमारी के कारण प्रतिवर्ष मरते हैं। यह चलन धीरे-धीरे बढ़ रहा है।

भारत में कैंसर के टॅाप हॅास्पिटल || Top Hospitals of cancer in India

  • टाटा मेमोरियल हॅास्पिटल, मुम्बई 
  • एचसीजी, बैंगलूरु
  • अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, नई दिल्ली 
  • अपोलो स्पेशलिटी हॅास्पिटल, चैन्नई

1 COMMENT

Comments are closed.