Hindi Patrakarita Diwas: उदंत मार्तण्ड की कमी खलने लगी है

Hindi Patrakarita Diwas kab manaya jata hai
Hindi Patrakarita Diwas
  • मनीष अहिरवार, होशंगाबाद (मध्यप्रदेश)
IMG 20200426 WA0030 edited
मनीष अहिरवार, होशंगाबाद (मध्यप्रदेश)

Hindi Patrakarita Diwas: वह 30 मई का ही दिन था, जब भारत में एक क्रांतिकारी युग का उदय हुआ था। एक ऐसा क्रांतिकारी युग, जो खुद अपनी बेबाक दुनिया रचने जा रहा था। जिसकी चाह न सिर्फ स्वधीनता की प्राप्ति थी, बल्कि देश के क्रांतिकारियों, नौंजवानो, लेखकों और कलमकारों को अपनी अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम भी देना था। देश में कई अंग्रेजी अखबार अपनी पैठ बना चुके थे। उनमें भारतीयों की स्वतंत्र अभिव्यक्ति का कोई स्थान नहीं था।

उस समय हिंदी भाषी भारतीयों के पास ऐसा सशक्त माध्यम नहीं था, जिन्हे वह अपना कह सके, जिसके माध्यम से अपनी बात तानाशाही अंग्रेजी हुकुमत तक पहुंचा सके। 30 मई 1826 को पंडित जुगलकिशोर का पहला हिंदी अखबार उदन्त मार्तण्ड प्रकाशित हुआ और यहीं से शुरू हुई हिंदी पत्रकारिता की क्रांति। इसी दिन को हिंदी पत्रकारिता दिवस के रूप में मनाया जाने लगा। आज हिंदी पत्रकारिता के 195 साल हो गए हैं।

Advertisement

इस दरमियान कई समाचार पत्र शुरू हुए, उनमें से कई बंद भी हुए, लेकिन उस समय शुरू हुआ, हिंदी पत्रकारिता का यह सिलसिला बदस्तूर जारी है। हिंदी पत्रकारिता का 195 साल का क्रांतिकारी सफर बड़ा उठा पटक भरा रहा है। उदंत मार्तण्ड के बाद कई हिंदी अखबारों का प्रकाशन शुरू हुआ। सभी ने अंग्रेजी हुकुमतों के खिलाफ स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के अंदर क्रांति की ऊर्जा भरने का काम किया।

स्वतंत्रता संग्राम की गतिविधियों को सक्रियता मुख्य रूप से हिंदी पत्रकारिता ने ही दी थी। कई लेखकों, संपादकों, पत्रकारों ने हिंदी पत्रकारिता के माध्यम से क्रांतिकारी आंदोलनकारियों को जोड़ने का काम किया, एवं उनके अंदर नई ऊर्जा का प्रवाह किया।

लेकिन हम हिंदी पत्रकारिता के 195 सालों का आंकलन करते हैं तो पाते हैं कि वर्तमान की पत्रकारिता ने वो तेवर खो दिए हैं जो आजादी के पहले की पत्रकारिता ने स्थापित किए थे। उदंत मार्तण्ड की कमी हमें खलने लगी है। क्योंकि आज की पत्रकारिता में न विचार बचे, न समाचार बचे, बचा है तो बस बाजारवाद।

मीडिया की अपनी कोई विचारधारा नहीं रह गई है। क्योंकि मीडिया में राजनीति और राजनीति में मीडिया ने ऐसी घुसपैठ की है, कि दोनों एस दूसरे से दूषित हो गए। न तो मीडिया की कोई स्वतंत्रता बची, और न राजनीतिक का स्वाभिमान बचा। वर्तमान की हिंदी पत्रकारिता ने अपनी दुनिया खुद बना ली है, जिसमें से जनता की आवाज और लोकतंत्र के मायने सब कुछ गायब है। मीडिया अपनी दुनिया का एक ऐसा सिपाही बन बैठा, जिसकी रपट लिखने वाला कोई नहीं है। मीडिया दोषियों की सिनाख्त करने वाला दरोगा, और सजा सुनाने वाली अदालत बन बैठी है।

यही वजह है कि आज मीडिया की साख लगातार गिरती जा रही है। लोगों में मीडिया के प्रति काफी हद तक विश्वास नहीं रह गया है। उदंत मार्तण्ड ने हिंदी पत्रकारिता की जिस इमारत को अपनी त्याग, तपस्या, निडरता और बेबाकपन से खड़ी की थी, आज वह वाणों की सैया पर पड़े भीष्मपितामह की तरह कराह रही है। आज की पत्रकारिता, डर का महल बन गई है। वह सत्ता से सवाल करने की जगह उसकी वाहवाही करने लगी हैं।

मीडिया ने सत्ता को डर की चादर बना लिया है, जिसे ओढ़कर वह थर-थर कांपती है। यही वजह है कि, प्रेस फ्रीडम इंडेक्स यानी कि प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक में भारतीय मीडिया लगातार नीचे की ओर खिसकती जा रही है। रिपोर्टर्स विदाउट बाॅर्डर्स के वार्षिक विश्लेषण के अनुसार वैष्विक प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक में भारत 180 देशों में 142वे स्थान पर हैं। जबकि साल 2019 में भारत 140वे स्थान पर था।

आज हमें उदंत मार्तण्ड जैसे उन सभी बेबाक, अखबारों की कमी खलने लगी है, जिन्होंने तानाशाही हुकुमतों को सच्चाई का आईना दिखाया था, उनकी कड़ी आलोचना की थी।

पूरे देश में करें विज्ञापन सिर्फ 5 हजार में एक माह के लिये-

अगर आपके व्यवसाय, कम्पनी या #प्रोडक्ट की ब्राडिंग व #प्रमोशन अनुभवी टीम की देखरेख में #वीडियो, आर्टिकल व शानदार ग्राफिक्स द्वारा किया जाये तो आपको अपने लिये ग्राहक मिलेगें साथ ही आपके ब्रांड की लोगों के बीच में चर्चा होनी शुरू हो जायेगी।
साथियों, वीडियो और #आर्टिकल के माध्यम से अपने व्यापार को Eradio India के विज्ञापन पैकेज के साथ बढ़ायें। हम आपके लिये 24X7 काम करने को तैयार हैं। सोशल मीडिया को हैंडल करना हो या फिर आपके प्रोडक्ट को कस्टमर तक पहुंचाना, यह सब काम हमारी #एक्सपर्ट_टीम आपके लिये करेगी।

इस पैकेज में आपको इन सुविधाओं का लाभ मिलेगा-

  • आपकी ब्रांड के प्रचार के लिए 2 वीडियो डॉक्यूमेंट्री।
  • 2 सोशल मीडिया एकाउंट बनाना व मेंटेन करना।
  • 8 ग्राफिक्स डिज़ाइन की शुभकामना व अन्य संदेश का विज्ञापन।
  • फेसबुक विज्ञापन और Google विज्ञापन, प्रबंधन।
  • नियमित प्रोफ़ाइल को मेंटेन करना।
  • नि:शुल्क ब्रांड लोगो डिजाइन (यदि आवश्यक होगा तो)।
  • परफेक्ट हैशटैग के साथ कंटेंट लिखना और प्रभावशाली पोस्टिंग।
  • कमेंट‍्स व लाइक्स काे मैंनेज करना।
  • www.eradioindia.com पर पब्लिश की जाने वाली न्यूज में आपका विज्ञापन नि:शुल्क दिया जायेगा।
  • अभी ह्वाट‍्सअप करें: 09458002343
  • ईमेल करें: [email protected]
amazone advt