BDO के कंधों पर तीसरी लहर की जिम्मेदारी

  • मेरठ।

गांव में तीसरी लहर को रोकने की जिम्मेदारी बीडीओ के कंधे पर होगी। इसके लिए जिलाधिकारी के बालाजी ने बीडीओ को अभी से तैयारी के लिए दिशा—निर्देश देने शुरू कर दिए हैं। अब बीडीओ अपने -अपने ब्लाक में रात्रि विश्राम करें। साथ ही कोविड संक्रमण की रोकथाम को लेकर गांवों में चल रहे स्वच्छता मिशन, दवा वितरण, कोविड मरीजों की जांच व वैक्सीनेशन आदि कार्यों को समय से पूरा कराएं।

इस कार्य में किसी भी स्तर पर लापरवाही क्षम्य नहीं होगी। बता दें कि दूसरी लहर के अंत में शहरों की तुलना में गांवों में कोविड संक्रमण के केस अधिक आए थे। उसके बाद से प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के लिए ये चुनाैती बन गए थे। जिन पर काफी मशक्कत के बाद काबू पाया गया था। तीसरी लहर की आहट मात्र से अब प्रशासन पूरी तरह अलर्ट मोड में है।

Advertisement

राजस्व विभाग के अलावा ग्राम पंचायत के सभी कर्मचारियों की तैनाती घर- घर जाकर दवा वितरण के साथ ही कोविड को लेकर जागरूक किया जा रहा है। इसके साथ ही जांच के लिए सैंपल भी लिए जा रहे हैं। कोविड की चपेट में आने वालों को घर या स्कूल में क्वारांटाइन करने की व्यवस्था की जा रही है। एएनएम, आशा आदि को निर्देशित किया गया है कि गंभीर केस होने पर तत्काल मरीजों को अस्पताल में भर्ती कराने की प्रक्रिया पूरी कराएं।

इसी क्रम में जिलाधिकारी ने सचिवों को निर्देशित किया है कि कोविड काल के दौरान आवंटित गांव में निवास करेंगे। अिधकांशत: सचिवों के जिम्मे चार से पांच गांवों को आवंटित िकया गया है। जिलाधिकारी ने सभी सचिवों को गांव में स्वच्छता मिशन के तहत साफ सफाई के मुकम्मल इंतजाम कराने के भी निर्देश दिए हैं। कहा है कि हैंडपंप या अन्य पानी के स्रोत वाले स्थलों पर सैनिटाइजेशन अवश्य किया जाए। इसके साथ ही तालाबों में भी दवा का छिड़काव किया जाए।

प्रशासन द्वारा पशुपालन विभाग के अधिकारियों को भी निर्देशित किया गया है कि जानवरों के टीकाकरण आदि अभियान चलाकर पूरा किया जाए। बीडीओ अपने -अपने ब्लाक में रात्रि विश्राम करें। साथ ही कोविड संक्रमण की रोकथाम को लेकर गांवों में चल रहे स्वच्छता मिशन, दवा वितरण, कोविड मरीजों की जांच व वैक्सीनेशन आदि कार्यों को समय से पूरा कराएं। इस कार्य में किसी भी स्तर पर लापरवाही क्षम्य नहीं होगी। -डीएम के बालाजी