Nadanusandhan Kya Hai : नाद एवं नादानुसंधान का वर्णन
Nadanusandhan Kya Hai : नाद एवं नादानुसंधान का वर्णन

Nadanusandhan Kya Hai : नाद एवं नादानुसंधान का वर्णन

0 minutes, 13 seconds Read

Nadanusandhan Kya Hai : नाद एक प्रकार की ध्वनि है जो एक बार उच्चारित करने पर सदैव गूंजती रहती है। हठयोग में नाद के माध्यम से उच्चावस्था की प्राप्ति की जा सकती है ऐसा वर्णन मिलता है अर्थात् नाद विधि का इस्तेमाल कर समाधि अवस्था प्राप्त की जा सकती है।

नाद के प्रकार (Types of Nad)-

नाद दो प्रकार के होते हैं जिनके अलग-अलग अर्थ होते हैं-

(I) आहत नाद: ऐसी ध्वनि जिसके गूंजने से दु:ख का आभास होता है या ऐसी आवाजें जो सुनने में अच्छी नहीं लगतीं। ये आवाजें टकराव के पश्चात सुनाई देती हैं।

(II) अनाहत नाद: ऐसी ध्वनियां जिनके सुनने से मन आनंदित हो उठता है। ये आवाजें किसी टकराव के पश्चात नहीं बल्कि स्वत: उठतीं रहती हैं। यह ध्वनियां मनुष्य के अन्तर्मन में उठतीं हैं।

आपको बता दें कि सम्पूर्ण ब्रहमांड में एक ध्वनी सदा गूंज रही है किन्तु बिना सजग हुए हम इस ध्वनि को सुन नहीं सकते। सांसारिक शोर-शराबे या कोलाहाल में यह ध्वनी विलीन हो जाती है। अनंत काल से बिना किसी संयोजन के यह ध्वनी गूंज रही है। यह ध्वनी दो पदार्थों के टकराने से नहीं निकलती बल्कि वगैर किसी टकराहट या चोट के यह ध्वनी सदा से गूंज रही है इसलिए इसे अनाहत नाद या अनहद नाद भी कहा जाता है।

नादानुसंधान क्या है? Nadanusandhan Kya Hai?

नादानुसंधान दो शब्दों से मिलकर बना है, नाद + अनुसंधान। नाद का अर्थ है ध्वनि या आवाज तथा अनुसंधान का अर्थ है बार-बार ध्वनियों को सुनना उनका मनन करना या ध्वनि पर ध्यान लगाना।

नादानुसंधान कैसे करें? Nadanusandhan Kaise Karein?

मुक्तासन या सिद्धासन में बैठकर, शाम्भवी मुद्रा लगाएं। कान, आंख, नाक व मुंह को हाथ की विभिन्न अगुलियों से बंद कर दाहिने कान से अन्तर्मन की उठने वाली आवाजों को बार-बार सुनना होता है।

Nadanusandhan Kya Hai: प्रारम्भ में आपको एक ध्वनी सुनाई देगी जो हो सकता है आपके ब्लड सर्कुलेशन या हृदय के धड़कने के कारण सुनाई दे। जब थोड़ा और गहरे में सुनेंगे तो आपको एक ऐसा ध्वनी सुनाई देगा जिसे आप कभी नहीं सुने हैं।

यह ध्वनी कैसी है पृथ्वी पर इसका कोई उदाहरण नहीं है। लेकिन पूरे होश व सजगता के साथ ही हमें इस ध्वनि को सुनना है। अभ्यास बढाने पर बाद में बिना किसी प्रयास के यह ध्वनी आपको सुनाई देने लगेगा।

नादनुसंधान के साधक कौन हो सकते हैं? Nadanusandhan Ke Sadhak Kaun hain?

योग में परमात्मा प्राप्ति के अनेकों साधन हैं, भिन्न-भिन्न विधियों के प्रयोग के पश्चात जब साधक तत्वज्ञान प्राप्त करने में असमर्थ हो जाते हैं तब ऐसे लोगों के लिए गुरू गोरक्षनाथ जी ने नादनुसंधान या नाद की उपासना का वर्णन किया है।

नाद की अवस्थाएं || Nad ki avasthayein

नाद की चार अवस्थाएं होती हैं आरम्भावस्था, घटावस्था, परिचयावस्था व निष्पत्यावस्था। इसके किस अवस्था में क्या प्रभाव पड़ता है उसके बारे में यहां एक टेबल के माध्यम से समझ सकते हैं-

अवस्थाएंकिस चक्र पर प्रभावकिस ग्रन्थि का भेदनप्रभाव
आरम्भावस्थाअनाहत चक्रब्रह्म ग्रन्थिझण-झण की आवाज सुनाई देती है। इस अवस्था में साधक शून्यावस्था में होता है एवं प्रसन्न चित्त होता है।
घटावस्थाविशुद्धि चक्रविष्णु ग्रन्थिभैरी नामक यंत्र की आवाज सुनाई देती है। साधक ज्ञानी व देवतुल्य हो जाता है।
परिचयावस्थामनस चक्रकिसी ग्रन्थि का नहींसाधक परमानंद अवस्था में हो जाता है। इसमें ढोल की ध्वनि सुनाई देती है।
निष्पत्यावस्थाआज्ञा चक्ररुद्र ग्रन्थिवीणा की झंकार का स्वर सुनाई देता है। अनन्त क्षमता हो जाती है।
  • Varicose Veins Treatment in Meerut: नसों के गुच्छे का Best समाधान मात्र 3 घंटे में

    Varicose Veins Treatment in Meerut: नसों के गुच्छे का Best समाधान मात्र 3 घंटे में

    Varicose Veins Treatment in Meerut: साथियों आजकल पैर में नसों के गुच्छों का बन जाना एक आम समस्या बनती जा रहा है जिसकी वजह से लोगों को चलने-फिरने में समस्याएं होती हैं, पैर की नसें ब्लॉक हो जाती हैं और उनमें ब्लड सर्कुलेशन ठीक से नहीं हो पता है। इस तरह के मरीजों को ज्यादा…


  • Vishwa Hindu Mahasangh Meerut ने योगी आदित्यनाथ के जन्मोत्सव की बनाई रूपरेखा

    Vishwa Hindu Mahasangh Meerut ने योगी आदित्यनाथ के जन्मोत्सव की बनाई रूपरेखा

    Vishwa Hindu Mahasangh Meerut इकाई उत्तर प्रदेश द्वारा गौरक्षा पीठाधीश्वर, परम पूजनीय महंत योगी आदित्यनाथ जी के 53 वे जन्मोत्सव कार्यक्रम को मेरठ में संपन्न किए जाने के उपलक्ष में विशेष सभा का आयोजन किया गया। Vishwa Hindu Mahasangh Meerut के विधि प्रकोष्ठ मेरठ इकाई उत्तर प्रदेश द्वारा मीडिया बंधुओ के साथ आयोजित विशेष बैठक…


  • विदेश मंत्री के इस बयान से तिलमिला रहे मुस्लिम देश

    विदेश मंत्री के इस बयान से तिलमिला रहे मुस्लिम देश

    विदेश मंत्री एस जयशंकर इन दिनों अपने फार्म में हैं, उनके अंदाज और बात करने के लहजे से राष्ट्रीय स्तर पर उनकी एक अलग पहचान बन चुकी है। हाल ही में उन्होंने एक ऐसा बयान दे दिया जिसकी वजह से एक बार वह फिर चर्चाओं में आ गए हैं। उन्होंने विदेशों में भारत के ‘नकारात्मक’…


author

Pratima Shukla

प्रतिमा शुक्ला डिजिटल पत्रकार हैं, पत्रकारिता में पीजी के साथ दो वर्षों का अनुभव है। पूर्व में लखनऊ से दैनिक समाचारपत्र में कार्य कर चुकी हैं। अब ई-रेडियो इंडिया में बतौर कंटेंट राइटर कार्य कर रहीं हैं।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Copyright: mail me to info@eradioindia.com